1 सितम्बर 2016 से 10000 से अधिक के चालान ऑनलाइन जमा होगें

0
45

आगर-मालवा | म.प्र. शासन वित्त विभाग के निर्देशानुसार प्रदेश के कोषालयों के कम्प्यूटरीकरण अनुक्रम में उपलब्ध सायबर कोषालय सुविधा में शासन के पक्ष में जमा होने वाली समस्त प्रकार की छोटी-बड़ी शासकीय धनराशि सॉयबर कोषालय से जमा की जा सकती है। ऐसे जमाकर्ता जिनके पास इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा नहीं है अथवा जो राशियॉ नगद जमा करना चाहते है, विभागीय अधिकारी के माध्यम से अथवा एम.पी. ऑन लाईन कियोस्क सेंटर के माध्यम से कियोस्क शुल्क भुगतान के साथ राशि जमा कर सकते है।
वित्त विभाग द्वारा सायबर कोषालय के माध्यम से राशि जमा करने/रिफण्ड करने हेतु निम्नांकित निर्देश जारी किये गये है, 01 सितंबर 2016 के पश्चात रू. 10000/- से अधिक की राशियां भौतिक चालान से बैंकों के काउन्टर पर जमा नहीं की जा सकेगी, विभागीय सॉफ्टवेयर में जमाकर्ता को संबंधित जिले एवं एसेसमेंट अधिकारी/प्राधिकृत अधिकारी की जानकारी भरने की अनिवार्यता होगी, जो विभाग विभागीय सॉफ्टवेअर का उपयोग कर रहे है एवं उनके विभागीय सॉफ्टवेअर में यह व्यवस्था नहीं है, तो विभाग 30 सितम्बर 2016 तक यह व्यवस्था विकसित करने की कार्यवाही करे, जो विभाग सॉयबर कोषालय के माध्यम से गेट-वे का उपयोग न करते हुये सीधे किसी बैंक का गेट-वे उपयोग कर रहे है,(जैसे परिवहन, वाणिज्य कर आदि) वे विभाग 01 अप्रेल 2017 से अनिवार्यतः सॉयबर कोषालय के माध्यम से पेमेंट गेट-वे का उपयोग करेंगे, इस हेतु विभाग द्वारा आवश्यक इंटीग्रेशन IFMIS साफ्टवेयर के अंतर्गत सायबर कोषालय से किया जायेगा, जमाकर्ता द्वारा जिस जिले के लिये राशि जमा की गई है, उस जिले के जिला कोषालय अधिकारी द्वारा राजस्व वापसी की जा सकेगी। यदि किसी जिलें में एक से अधिक कोषालय है, जो उस कोषालय में राजस्व वापसी हेतु देयक प्रस्तुत किये जा सकेगें, जिससे संबंधित विभाग के आहरण अधिकारी द्वारा अन्य आहरण किये जाते है, कोषालय अधिकारी चालान के सत्यापन के लिये सॉयबर कोषालय में जमा चालान के विवरण का उपयोग करेगा, यदि जमाकर्ता द्वारा राशि जमा करते समय जिलों का चयन नहीं किया जा सका है, तो ऐसे चालानों के विरूद्ध भी वापसी भुगतान (Refund) उस कोषालय पर हो सकेगा जिस कोषालय पर विभागीय अधिकारी द्वारा यह प्रमाणित करना होगा कि प्रस्तुत चालान के विरूद्ध किसी और कोषालय पर वापसी हेतु देयक प्रस्तुत नहीं किया गया है, इन निर्देशों के जारी होने के पूर्व जमा हुए समस्त चालानों के लिये भी समान प्रक्रिया अपनाई जायेगी।
जिला कोषालय अधिकारी श्री जी.एल.गुवाटिया ने उक्त जानकारी देते हुवे बताया कि भारतीय स्टैट बैंक की शाखायें जिनमें चालान जमा किये जाते है उन्हें इस आशय के निर्देश जारी किये गये है अब 01 सितम्बर 2016 से रू. 10000(दस हजार ) से अधिक की राशि चालान द्वारा बैंको में जमा नहीं की जा सकेगी इससे अधिक की राशि ऑन लाईन जमा करना होगी ।

LEAVE A REPLY