13 साल बाद LOC पर भारतीय सेना की सबसे बड़ी कार्रवाई

0
12

डीजीएमओ को फोन कर एलओसी पर तनाव कम करने को लेकर हॉटलाइन पर बात की. लेकिन भारतीय डीजीएमओ ने साफ कर दिया कि जबतक पाकिस्तान युद्धविराम का उल्लंघन और घुसपैठ बंद नहीं कर देता, भारत का हमला ऐसे ही जारी रहेगा.

भारतीय सेना के प्रवक्ता के मुताबिक, पाकिस्तान के खिलाफ भारत की ‘दंडात्मक कारवाई’ के बाद बुधवार शाम पाकिस्तानी डीजीएमओ ने हॉटलाइन पर बात करने की गुजारिश की. ये बातचीत पहले से तय नहीं थी. प्रवक्ता के मुताबिक, पाकिस्तानी डीजीएमओ, लेफ्टिनेंट जनरल, साहिर शमसाद मिर्जा ने भारतीय गोलाबारी में पाकिस्तानी नागरिकों के मारे जाने का मुद्दा उठाया. इस पर भारतीय डीजीएमओ, लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने नागरिकों की मौत पर दुख जताते हुए दो टूक जवाब दिया कि भारत सिर्फ उन्हीं पाकिस्तानी चौकियों को निशाना बना रही है जहां से युद्धविराम का उल्लंघन हो रहा है. बातचीत में रणबीर सिंह ने भी पाकिस्तानी फायरिंग में मारे जा रहे भारतीय नागरिकों और सैनिकों का मुद्दा उठाया.

जानकारी के मुताबिक, भारतीय डीजीएमओ, लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष से मंगलवार को आंतिकयों द्वारा पाकिस्तानी सीमा से घुसपैठ कर माछिल सेक्टर में एक सैनिक के शव को क्षत-विक्षत करने का मामला भी उठाया. डीजीएमओ ने साफ कर दिया कि पाकिस्तान अपने सैनिकों की करतूतों पर रोक लगाए. साथ ही पाकिस्तान अपनी तरफ से हो रही आतंकियों की घुसपैठ को भी बंद करे.

इस बीच पाकिस्तानी सेना ने भारतीय गोलाबारी में मारे गए तीन सैनिकों की बात भी कबूल कर ली. पाकिस्तानी सेना की आईएसपीआर विंग ने कहा कि भारतीय गोलाबारी में कैप्टन तैमूर अली, हवलदार मुश्ताक हुसैन और लांस नायक गुलाम हुसैन शहीद हुए हैं.

LEAVE A REPLY