ट्रैक के टूटने से हुआ पटना-इंदौर ट्रेन हादसा, अबतक 95 की मौत, 150 घायल

0
7

पटना: पटना-इंदौर राजेंद्रनगर एक्सप्रेस ट्रेन, जो इंदौर से पटना आ रही थी, आज सुबह तीन बजकर दस मिनट पर कानपुर के पुखरायां के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गई। ट्रेन की 14 बोगियां कानपुर के पास पुखरायां में पटरी से उतर गई। हादसे में अब तक 95 लोगों की मौत हो गई है और 150 सौ से अधिक लोग घायल हैं।

उत्तरप्रदेश के एडीजी लॉ एंड अॉर्डर और कानपुर के आइजी जकी अहमद ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि दुर्घटना में मृतकों की संख्या 95 पहुंच चुकी है जबकि करीब 150 लोग घायल हैं। सभी घायलों का इलाज अस्पतालों में किया जा रहा है। मौके पर राहत और बचाव कार्य जारी है।

कानपुर से ट्रेन से सफर कर रहे पटना के घायल यात्रियों को लेकर विशेष ट्रेन कानपुर से रवाना हो गई है।आरक्षण चार्ट के मुताबिक पटना के यात्रियों की संख्या 235 बताई जा रही है। ट्रेन सुबह चार बजकर चालीस मिनट पर पटना जंक्शन पहुंचने वाली थी लेकिन कानपुर के पास ही दुर्घटनाग्रस्त हो गई। सुबह का वक्त होने से लोगों को धीरे-धीरे इसकी जानकारी मिली और लोग पटना जंक्शन पहुंच रहे हैं।

राजेंद्रनगर एक्सप्रेस ट्रेन की एसी बोगी और जेनरल कोच के करीब चौदह डिब्बे पटरी से उतर गए। इस हादसे में अबतक 95 लोगों की मौत और 150 से ज्यादा लोगों के घायल होने की आशंका है। राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और रेलमंत्री सुरेश प्रभु के साथ ही कई लोगों ने इस हादसे पर गहरा दुख जताया है।



मिली जानकारी के मुताबिक इंदौर पटना एक्सप्रेस हादसे में सिवान की एक महिला की मौत हो गई है। मृतका का नाम रतनिका बताया जा रहा है। उसके साथ पति और बच्चे भी ट्रेन में मौजूद थे जो गंभीर रूप से घायल हैं।

रेल हादसे में नालंदा जिले के सरमेरा थाना के सिंघौल निवासी रमाकांत त्रिवेदी के मौत की सूचना। बरबीघा के प्रसिद्ध डॉ भुनेश्वर सिंह सहित अन्य फंसे। पटना के संजीत कुमार हादसे में घायल हैं। इलाज के लिए ले जाया गया है।

कानपुर हादसे में मुंगेर के बरियारपुर के ब्रह्मस्थान गांव निवासी ब्रह्मदेव सिंह की पुत्री व दामाद के साथ नाती व नतनी के गंभीर रूप से जख्मी होने की सूचना मिली है। सूचना मिलने के बाद घर में मातमी सन्नाटा छाया हुआ है। टीवी पर जख्मी अवस्था में ले जाते दिखे बेटी व दामाद ।घटना स्थल के लिए रवाना हुए परिजन।

LEAVE A REPLY