सेना के “खोजो और मारो” अभियान में 10 आतंकी ढेर

0
37

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा के नौगाम में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान सेना का एक जवान शहीद हो गया। अभी चार से पांच और आतंकियों के वहां पर छिपे होने का अंदेशा है और तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

पाकिस्तान को मंगलवार की दोपहर उड़ी सेक्टर में घुसपैठ और संघर्ष विराम का उल्लंघन भारी पड़ा। पाक गोलीबारी में भारतीय सेना को कोई नुकसान नहीं पहुंचा, लेकिन सेना की ओर से की गई जवाबी कार्रवाई में 10 घुसपैठिये मारे गए। अन्य आतंकियों के खिलाफ सैन्य अभियान जारी है। अलबत्ता, रक्षा मंत्रालय ने संघर्ष विराम उल्लंघन की तो पुष्टि तो की लेकिन घुसपैठियों के मारे जाने पर किसी तरह की प्रतिक्रिया से इनकार करते हुए उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा कि जब तक शवों को कब्जे में नहीं लिया जाता, तब तक कुछ भी कहना उचित नहीं होगा।

उड़ी में रविवार को सैन्य ब्रिगेड पर आतंकी हमले के बाद सेना ने शाम को ही अग्रिम इलाकों में आतंकियों के खिलाफ खोजो और मारो अभियान शुरू कर दिया था। सूत्रों ने बताया कि सुबह सेना ने जब लच्छीपोरा और माइयां गांव के साथ सटे इलाकों को खंगालना शुरू किया तो पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय ठिकानों पर गोलीबारी शुरू की दी। इस इलाके में सेना को बीती रात ही 20 से 25 घुसपैठियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इनमें से अधिकांश गत सप्ताह ही गुलाम कश्मीर से इस तरफ आने में कामयाब रहे थे।

सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय ठिकानों पर गोलाबारी तलाशी अभियान को रोकने और लच्छीपोरा व उसके साथ सटे इलाकों में छिपे घुसपैठियों को सुरक्षित स्थानों की तरफ मौका देने के लिए की थी। अलबत्ता, भारतीय जवानों ने भी जवाब में पाकिस्तानी ठिकानों को निशाना बनाया और दोपहर बारह बजे एलओसी के पार से बंदूकें पूरी तरह शांत हो गई, लेकिन इस इलाके में घुसपैठियों की मौजूदगी की पुष्टि हो गई।

सैन्य अधिकारियों ने उसी समय अभियान की समीक्षा की और लच्छीपोरा, माइयां, पीरा, मुकामा व उसके साथ सटे सभी गांवों में कथित तौर पर स्थानीय प्रशासन के जरिए कर्फ्यू लगवाया। सभी स्कूलों में छुट्टी घोषित कराई और ग्रामीणों को अनावश्यक रूप से घरों से बाहर न आने की ताकीद करते हुए अभियान तेज कर दिया। यह सभी गांव बिल्कुल नियंत्रण रेखा पर स्थित हैं।

करीब एक घंटे बाद लच्छीपोरा और माइयां गांव के बीच एक नाले के पास जवानों ने घुसपैठियों को घेर लिया। जवानों को अपनी तरफ आते देख कुछ घुसपैठिए वापस गुलाम कश्मीर की तरफ भागने लगे तो कुछ निकटवर्ती आबादी की तरफ। उन्होंने जवानों पर गोलियां भी चलाई। जवाब में जवानों ने भी फायर किया और मुठभेड़ शुरू हो गई।

स्थानीय सूत्रों ने बताया कि शाम पांच बजे तक 10 घुसपैठिए मारे जा चुके थे। उनके अन्य साथियों के खिलाफ सैन्य अभियान जारी है। मारे गए आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार, गोलाबारूद, खाद्य सामग्री, पांच जीपीएस, छह रेडियो सेट व अन्य साजो सामान मिला है। उन्होंने बताया कि इस इलाके में अभी भी एक दर्जन से ज्यादा आतंकी छिपे हुए हैं। उन्हें मार गिराने तक अभियान जारी रहेगा।

उरी में रविवार को हुआ था हमला

रविवार को ही उरी में जैश-ए-मोहम्मद के संदिग्ध आतंकियों ने एलओसी से सटे हुए भारतीय इलाके में बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम दिया था.

उरी हमले पर देशों की प्रतिक्रियाएं

1. हम कश्मीर के उरी सेक्टर में भारत के सैन्य ठिकाने पर आतंकी हमले की निंदा करते हैं। हम हर तरह के आतंक के खिलाफ हैं। हम भारत के साथ अपनी संवेदना जताते हैं और उसे आतंकवाद को मिटाने में हर तरह की मदद देने को तैयार हैं : यूएई

2. सऊदी अरब का विदेश मंत्रालय उत्तरी कश्मीर के उरी सेक्टर में भारतीय सेना के प्रतिष्ठान पर हुए हमले की निंदा करता है : सऊदी अरब

3. हम उरी आतंकी हमले की निंदा करते हैं और भारत को आतंकवाद मिटाने में हर मदद करने को तैयार हैं। हम आतंकवाद को पूरे जड़ से नष्ट करने का आह्वान करते हैं : बहरीन

4. इस तरह की आतंकी घटनाओं से कड़ाई से निपटना चाहिए। हमें भरोसा है कि उरी सेक्टर पर हमला करने वाले आतंकियों व उसकी साजिश रचने वालों को जल्द से जल्द सजा दिलाई जाएगी : नेपाल

5. हम आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ हैं : जापान

6. भारत के साथ फ्रांस भी आतंक पीड़ित है। भारत हमारा रणनीतिक साझेदार है। हम लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिज्ब-उल-मुजाहिदीन जैसे उन आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हैं जो भारत पर हमला कर रहे हैं : फ्रांस

LEAVE A REPLY