नोटबंदी: अमित शाह ने किया नीतीश का ‘स्वागत’ तो लालू ने लगाया सोनिया को टेलीफोन

0
3

जदयू के दोबारा से एनडीए में लौटने की सुगबुगाहट के बीच भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बेंगलुरू में नोटबंदी के बहाने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को निमंत्रण दे दिया. यूं तो अमित शाह ने नोटबंदी पर केंद्र सरकार का समर्थन करने के लिए नीतीश कुमार की सराहना की, लेकिन इस तारीफ के लिए उन्होंने ‘स्वागत है’ शब्द प्रयोग किया.

भाजपा अध्यक्ष के इस बयान के साथ ही राजनीतिक गलियारों में चर्चा शुरू हो गई है कि उन्होंने खुलेआम नीतीश कुमार को एनडीए का हिस्सा बनने का न्यौता दे दिया. दिलचस्प यह है कि इस बीच लालू यादव ने भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से फोन पर बातचीत की है.

बेंगलुरू में अमित शाह ने कहा, ‘मैं बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की काले धन के खिलाफ लड़ाई में सहयोग करने पर स्‍वागत करता हूं.’

उन्‍होंने आगे कहा, ‘सारा विपक्ष कांग्रेस, बसपा, सपा, ममता, केजरीवाल, मोदी से पूछते थे काले धन पे आपने क्या किया? अब पूछ रहे हैं ये क्‍यूं किया?’

इससे पहले बिहार के मुख्यमंंत्री नीतीश कुमार चार बार नोटबंदी की तारीफ कर चुके हैं. हालांकि वे नोटबंदी लागू करने में सरकार के इंतजाम पूरे नहीं होने की बात भी उठाते रहे हैं. इससे पहले रविवार को ही नीतीश ने कहा कि उन्‍होंने नोटबंदी पर सैद्धांतिक स्‍टैंड लिया है. सरकार के इस कदम से काले धन से लड़ाई में मदद मिलेगी.

नीतीश-शाह के मुलाकात की भी है चर्चा दोनों नेताओं का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब मीडिया में चर्चा है कि अमित शाह और नीतीश कुमार ने हाल में ही गुपचुप तरीके से मुलाकात की है. हालांकि नीतीश कुमार इस मुलाकात की बात को नकार चुके हैं.

उन्‍होंने कहा कि विकृत मानसिकता के लोग इस तरह की अफवाहें फैला रहे हैं. बिहार के मुख्‍यमंत्री ने हालांकि कहा कि केंद्र सरकार को पैसों की तंगी से परेशान लोगों को सहुलियत देने के लिए कदम उठाने चाहिए. जदयू शुरू से ही नोटबंदी का समर्थन कर रही है. हालांकि वह लोगों को हो रही परेशानी पर सरकार की आलोचना भी कर रही है.

जदयू ने 28 नवंबर को विपक्षी पार्टियों की ओर से बुलाए गए भारत बंद से भी खुद को अलग किया है. वहीं सरकार में उनके सहयोग राजद इस बंद में शामिल है. यहां दिलचस्प यह है कि राजद ने भी प्रेस कांफ्रेंस कर कहा है कि वह नोटबंदी का विरोध नहीं कर रहे हैं, बल्कि पर्याप्त इंतजाम नहीं होने के चलते गरीब जनता को रही परेशानी के विरोध में वे बंद को समर्थन दे रहे हैं.

नीतीश के यू-टर्न के बाद लालू ने की सोनिया से बातचीत
नोटबंदी पर बिहार में महागठबंधन की राहें अलग अलग होने से सियासत गड़माने लगी है. नीतीश कुमार के बार-बार नोटबंदी के समर्थन में दिये जा रहे बयान और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के धन्यवाद दिये जाने से महागठबंधन की मुश्किल बढ़ी है हालांकि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुछ बोलने से बच रहे हैं चौधरी कह रहे हैं कि अभी कुछ भी कहना जल्दीबाजी होगा. हालांकि बदले राजनीतिक परिस्थितियों में लालू प्रसाद की सोनिया गांधी से टेलीफोन पर बातचीत हुई है. दिल्ली से लोटने के बाद अशोक चौधरी भी लालू यादव से मिले हैं.

LEAVE A REPLY