उद्धव ने BJP को बताया अफजल खान की फौज

32
मुम्बई। सोमवार को शिवसेना ने भाजपा पर जोरदार हमला बोला। शिवसेना ने 25 साल पुराने गठबंधन को तोड़ने के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया। शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बालासाहेब ठाकरे के प्रति नए नवेले सम्मान पर भी सवाल उठाया।
गौरतलब हैं कि मोदी ने रविवार को सांगली की एक चुनावी रैली में कहा था कि वे बाल ठाकरे का सम्मान करते हैं, इसलिए चुनाव प्रचार में शिवसेना के खिलाफ कुछ भी नहीं बोलेंगे। इस चुनाव प्रचार में शिवसेना के खिलाफ एक भी शब्द नहीं बोलने का ऐलान किया था।
सोमवार को पलटवार करते हुए शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी के पास मुख्यमंत्री पद का चेहरा नहीं है। इसलिए नरेंद्र मोदी को महाराष्ट्र में सभाएं लेनी पड़ रही हैं। उनके साथ ही केंद्रीय मंत्रिमंडल की टीम भी आई है। कांग्रेस और एनसीपी से भाजपा की तुलना करते हुए सामना के संपादकीय में लिखा कि, यह सब जानते हैं कि कांग्रेस और एनसीपी ने महाराष्ट्र को लूटा।
उद्धव ने कहा, यह महाराष्ट्र जीतने के लिए आई अफजल खान की फौज है। (शिवाजी महाराज को हराने के लिए दिल्ली के बादशाह औरंगजेब ने सेनापति अफजल खान के नेतृत्व में फौज भेजी थी। बरात के बहाने शिवाजी ने पुणे के महल में घुसकर अफजल को घेर लिया था और खिड़की से कूदकर भाग रहे अफजल खान की उंगलियां काट डाली थीं।) शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा गया है कि, सीटों के बंटवारे को लेकर जब ये गठबंधन तोड़ा गया तब ये सम्मान कहां था? मोदी ने कहाकि वे अपने भाषणों में शिवसेना पर हमला नहीं बालेंगे क्योंकि वे बालासाहेब ठाकरे का सम्मान करते हैं।
हम भी प्रधानमंत्री का सम्मान करते हैं। लेकिन जब आपने सीटों के बंटवारे को लेकर हमारी पीठ में छूरा घोंपा तब ये सम्मान कहां था। हिन्दुत्व के मुद्दे पर बने गठबंधन को तोड़ते समय बालासाहेब की याद नहीं आई।
लेकिन गुजरात की मुख्यमंत्री किस उद्देश्य से महाराष्ट्र आई थी? यदि उन्होंने सभी उद्योगपतियों को महाराष्ट्र छोड़कर गुजरात में उद्योग लगाने को कहा तो ये भी महाराष्ट्र को लूटने जैसा ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here