इंडिया में यहाँ लिव-इन-रिलेशन का कल्चर पहले से हैं

63
भारत में लिव-इन-रिलेशनशिप के लिए अभी तक न तो कोई कानून बना हैं ना यहाँ का समाज इसे स्वीकार कर पाया हैं. लेकिन राजस्थान में एक ऐसी जगह हैं, जहाँ जोड़े लिव-इन-रिलेशन में रहते हैं. राजस्थान के आबू सड़क में स्थित कई ऐसे आदिवासी गाँव हैं जहाँ कई जोड़े बिना विवाह किये ही एक साथ रहते हैं और बिना विवाह किये साथ रहने की परमपरा कई ज़माने से चली आ रही हैं. दरअसल राजस्थान में अप्रैल महीने में होने वाले गणगौर मेले से जोड़े चुनने की ये प्रथा शरू होती हैं. गणगौर मेले में लड़के-लड़किया मिलते हैं. अपनी पसंद के हिसाब से अपने साथी का चुनाव करते हैं और पसंद किये साथी के साथ अपना गाँव छोड़ कर कही दूर जा कर रहने लगते हैं. गाँव से दूर जा कर किसी दुसरे स्थान पर ये जोड़े एक पति-पत्नी की तरह जीवन जीना शुरू करते हैं साथ ही अपने इस दाम्पत्य जीवन की जानकारी अपने गाँव में घर वालो को भेज देते हैं. गाँव से दूर रहने वाले जोड़ों के बच्चे हो जाने पर इस बात की भी सुचना अपने घर वालों को दी जाती हैं. यदि उनके घरवालें शादी के लिए मान जाते हैं और उनकी घर वापसी के लिए तैयार हो जाते हैं, तो भागे हुए ये जोड़े अपने गाँव वापस आ जाते हैं. मगर किसी कारणवश उन जोड़ों के घर वालें इनकी शादी के लिए राज़ी नहीं होते हैं तो ये जोडें बिना शादी किये ही लिव-इन रिलेशन में गाँव से दूर रह कर अपनी पूरी ज़िन्दगी बिना विवाह किये ही बिताते हैं. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here