न तो भावनाओं में बहेंगी और न ही मीडिया रिपोर्टिंग के दबाव में आएंगी अदालतें

0
9
नई दिल्ली। बलात्कार के मामलों में आरोपियों को बरी किए जाने पर हो-हल्ला मचाए जाने के चलन को खारिज करते हुए दिल्ली की एक अदालत ने कहा कि न्यायपालिका भावनाओं में नहीं बह सकती और न ही मीडिया रिपोर्टिंग के दबाव में आ सकती है। अदालत ने कहा कि यदि गवाह अपने बयान से पलट जाएं तो वह बलात्कार के मामले में किसी शख्स को दोषी नहीं ठहरा सकती।
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश निवेदिता अनिल शर्मा ने कहा कि अदालत को कानून और गवाहों के बयान के दायरे में रहना है। न्यायाधीश ने कहा कि यहां यह कहना अनुचित नहीं होगा कि आज लोगों में आक्रोश है और हर जगह हो-हल्ला मचाया जाता है कि अदालतें बलात्कार के आरोपियों को दोषी करार नहीं दे रहीं।
बहरहाल, यदि गवाह अभियोजन के पक्ष का समर्थन नहीं करे या पुख्ता प्रमाण न दे या जहां शिकायतकर्ता ही पलट जाए…जैसा कि मौजूदा मामले में हुआ है…तो बलात्कार के आरोपी किसी भी शख्स को दोषी नहीं करार दिया जा सकता।
उन्होंने कहा कि इस बात की अनदेखी नहीं की जानी चाहिए कि अदालत को कानून, फाइल की विषय-वस्तु के साथ-साथ गवाहों के बयान के दायरे में रहना है और उसे भावनाओं में नहीं बहना है, न ही मीडिया रिपोर्टिंग के दबाव में आना है।
अदालत ने एक शख्स को अपनी एक रिश्तेदार से बलात्कार करने और उससे छेड़छाड़ करने के आरोपों से मुक्त करते हुए ये टिप्पणियां की। उस पर महिला के पुत्र को जान से मार डालने की धमकी देने का भी आरोप था।
अदालत ने कहा कि महिला, जो अहम गवाह थी, के बयान के मद्देनजर वह इस निष्कर्ष पर पहुंची कि अभियोजन पक्ष को ‘भरोसे के लायक और विश्वसनीय’ नहीं माना जा सकता।
अदालत ने कहा कि ऐसे में इसका यह मतलब नहीं निकाला जा सकता कि आरोपी शिकायतकर्ता से बलात्कार का दोषी है। ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे यह लगे कि शिकायतकर्ता से कभी बलात्कार हुआ और आरोपी ने उसे धमकी दी या उसने उसका शीलभंग किया। आरोपी के खिलाफ कोई मामला नहीं बनता क्योंकि उसके खिलाफ कोई सबूत नहीं है।
अदालत ने कहा कि महिला ने गवाही दी है कि आरोपी ने उसके साथ कुछ भी बुरा नहीं किया। महिला ने आरोपी को बरी किए जाने की मांग भी की थी। अभियोजन के मुताबिक 24 मई 2013 को आरोपी आधी रात को कथित तौर पर महिला के कमरे में दाखिल हो गया और चाकू का खौफ दिखाकर उससे बलात्कार किया।
अभियोजन के मुताबिक वह कथित तौर पर अगली दो रात को भी महिला के कमरे में गया और उससे बलात्कार किया। आरोपी ने महिला को कथित तौर पर यह धमकी भी दी कि यदि उसने घटना के बारे में किसी को बताया तो वह उसके बेटे को जान से मार डालेगा।

LEAVE A REPLY