मुंबई के गुनहगार याकूब मेमन को फांसी

0
12
मुंबई बम ब्लास्ट के गुनहगार याकूब मेमन को गुरुवार को सुबह 6.30 बजे जेल अधीक्षक सहित 6 अधिकारियों की मौजूदगी में नागपुर जेल में फांसी दे दी गई। इस दौरान उसके परिवार के लोग भी जेल परिसर में मौजूद थे। जेल प्रशासन ने सुबह 7 बजकर एक मिनट पर उसे मृत घोषित किया। इसके बाद याकूब के शव का पोस्टमार्टम शुरू कर दिया गया। इस बीच महाराष्ट्र के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) केपी बख्शी ने बताया के पोस्टमार्टम के बाद याकूब का शव उसके भाई उस्मान और सुलेमान को सौंप दिया जाएगा। परिजन याकूब का शव मुंबई ले जाएंगे। इसके बाद वहीं पर कानून के नियमों का पालन करते हुए याकूब को सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। आज ही जन्मदिन भी ये भी अजीब संयोग की है कि आज ही के दिन याकूब का जन्म हुआ था और आज ही के दिन उसे मौत मिली। आज याकूब का 53वां जन्मदिन है। इससे पहले पूरी रात तक घटनाक्रम चला। फांसी देने को लेकर बुधवार रात तक तस्वीर साफ नहीं हो पाई थी। राष्ट्रपति से सुप्रीम कोर्ट तक लगातार खारिज होती याकूब की याचिकाओं के मद्देनजर नागपुर सेंट्रल जेल में फांसी की तैयारियां चलती रहीं। उससे पहले शीर्ष कोर्ट ने मेमन के डेथ वारंट पर अमल रोकने व क्यूरेटिव पिटीशन खारिज कर दी तो राष्ट्रपति ने भी दूसरी बार दाखिल उसकी दया याचिका केंद्र की सिफारिश पर नामंजूर कर दी। रिपोट्र्स के मुताबिक जिस वॉर्ड में याकूब को रखा गया था, वहां पर एक महिला कैदी समेत 15 कैदी बंद थे। आखिर में याकूब को छोड़कर बाकी कैदियों को अन्य वॉड्र्स में शिफ्ट कर दिया गया था। याकूब को खुले सेल में रखा गया था, मगर बाहर तैनात गार्ड पूरी नजर रख रहे थे कि कहीं वह खुदकुशी की कोशिश न करे। रोने लगा याकूब मुंबई बम ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन ने एक दिन पहले अपने करीबियों से मुलाकात की थी। इस दौरान वह रोने लगा था। फांसी से पहले अन्य कैदियों और जेलकर्मियों से उसने कहा कि अगर कोई गलती हो गई हो तो माफ कर देना। जेल के आसपास नाकाबंदी नागपुर में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद है। जेल के दो सौ मीटर के इलाके में नाकाबंदी कर दी गई है। मीडिया को रोक दिया गया है और केवल एक ही रास्ते को ख़ुला रखा गया है। जयपुर मंे अलर्ट याकूब मेमन की फंासी के बाद जयपुर शहर में भी अलर्ट जारी किया गया है। अलर्ट के दौरान जयपुर शहर मंे आने वाले सभी वाहनों की चैंकिग करने और संदिग्ध लोगों के बारे में पूरी जानकारी रखने के निर्देश जारी किए गए हैं। शहर के सभी पुलिस थानों को भी अपने-अपने क्षेत्र में पूरी तरह से सचेत रहने के लिए कहा गया है। सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया याकूब मेनन की फांसी को लेकर देशभर में जिज्ञासा दौर रातभर जारी रहा। लोग फेसबुक, ट्विट्र और व्हाट्सएप पर मैसेज से प्रतिक्रिया व्यक्त करते रहे। याकूब मेनन की फांसी को लोगों ने मुम्बई हमलों में दिवंगत हुए लोगों के प्रति न्याय बताया। वहीं, कुछेक लोगों ने याकूब मेनन के पक्ष में भी अपनी प्रतिक्रिया दी। कल शाम से शुरू हुआ सोशल मीडिया पर प्रक्रियाओं का दौर आज सुबह तक चलता रहा।

LEAVE A REPLY