मौनी अमावस्या पर ढाई करोड़ श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी

0
11
संगम (इलाहाबाद) : तीर्थराज प्रयाग में चल रहे महाकुंभ मेले में रविवार को मौनी अमावस्या के शाही स्नान के लिए संगम तट पर श्रद्धालुओं का सैलाब देखा जा रहा है। नागा साधुओं के नेतृत्व में शुरू हुए इस सबसे बड़े शाही स्नान में डुबकी लगाने के लिए देश-विदेश से श्रद्धालु पहुंचे हैं। दोपहर एक बजे तक करीब ढाई करोड़ से ज्यादा श्रद्धालु स्नान कर चुके हैं।

गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती नदियों के संगम पर लगे महाकुंभ मेले के तीसरे और सबसे बड़े शाही स्नान के लिए 22 घाट बनाए गए हैं। सभी घाटों पर तड़के से ही श्रद्धालु स्नान कर रहे हैं। घाटों पर जय मां गंगे, हर-हर गंगे के उद्घोष गुंजायमान हो रहे हैं। महाकुंभ मेले की शान कहे जाने वाले नागा साधुओं की तड़के से जब पेशवई निकल रही थी, तो संगम का दृश्य देखते ही बन रहा था। ढोल-मंजीरा बजाते और अपने शस्त्रों को लहराते नागा साधु स्नान के लिए अपने अखाड़ों के साथ निकल रहे थे। लोग नागा साधुओं को बड़ी उत्सुकता और उत्साह से देख रहे थे।
मेला प्रशासन के अधिकारियों के मुताबिक, दोपहर एक बजे तक ढाई करोड़ से अधिक श्रद्धालु, साधु-संत और धर्माचार्य डुबकी लगा चुके हैं। प्रशासन ने तीन करोड़ श्रद्धालुओं के स्नान की उम्मीद जताई थी। श्रद्धालुओं के सैलाब को देखते हुए लगता है कि शाम तक यह संख्या तीन करोड़ के पार हो जाएगी। संगम स्नान करने आए संगीतज्ञ पंडित जसराज ने कहा कि मुझे अपने जीवन में इतना आनंद कभी नहीं आया, जितना आज मुझे त्रिवेणी संगम में स्नान करके महसूस हो रहा है। अद्भुत अनुभव है। चारों तरफ अद्भुत नजारा है।
आह्वान अखाड़े की तरफ से आमंत्रित महामंडलेश्वर के रूप में पेशवई में हिस्सा लेकर स्नान करने पहुंचे विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि मैंने हिंदुस्तान के सौ करोड़ हिंदुओं के कल्याण के लिए गंगा मां से प्रार्थना की है।
मौनी अमावस्या के शाही स्नान के लिए प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं। उत्तर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) अरुण कुमार स्वयं मेले में डेरा डालकर सुरक्षा इंतजामों की निगरानी कर रहे हैं। मेले में भगदड़ की खबरों को अफवाह करार देते हुए कुमार ने कहा कि कहीं भगदड़ जैसे हालात नहीं पैदा हुए। मौनी अमावस्या का स्नान सुचारु रूप से चल रहा है। श्रद्धालुओं से अपील है कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें।
उन्होंने बताया कि मेले में सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं। राज्य पुलिस, होमगार्ड और अर्धसैनिक बलों के करीब 40 हजार जवान मेले के कोने-कोने में तैनात किए गए हैं। साथ ही जल पुलिस के जवान भी घाटों पर तैनात हैं। सीसीटीवी कैमरों से मेले के कोने-कोने की निगरानी की जा रही है। मकर संक्रांति से शुरू हुआ महाकुंभ मेला आगामी 10 फरवरी तक चलेगा। इलाहाबाद में महाकुंभ मेला 12 साल बाद लगा है। इससे पहले यहां वर्ष 2000 में महाकुंभ मेला लगा था।

LEAVE A REPLY