कुंडा केस में सीबीआई जांच शुरू

0
11

नई दिल्ली। सीबीआई ने डीएसपी जिया उल हक, कुंडा के बलीपुर गांव के प्रधान और उनके भाई की हत्या के मामले की जांच औपचारिक तौर पर शुरू कर दी है। इस मामले में सीबीआई ने 4 मुकदमे दर्ज किए हैं। इनमें से एक मुकदमे में राजा भईया को हत्या और आपराधिक साजिश समेत कई धाराओं में आरोपी बनाया गया है। इसके बाद राजा भैया से पूछताछ की जा सकती है। सीबीआई की टीम आज कुंडा पहुंचेगी और क्राइम सीन यानी बलीपुर गांव जाएगी और वहां चश्मदीदों के साथ साथ उन पुलिसवालों से भी पूछताछ करेगी जो घटना के समय मौके पर थे।
सीबीआई ने डीएसपी हत्या केस में अपना पहला कदम बढ़ा दिया है। गुरुवार को उसने उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया को हत्या और हत्या की साजिश रचने का आरोपी बनाया। इसी के साथ सीबीआई ने डीएसपी जिया उल हक की हत्या के मामले में अपनी औपचारिक जांच शुरू कर दी है। इसके पहले चरण में उसने इस मामले में कुल चार मुकदमें दर्ज किए। राजा भैया पर एफआईआर जिया उल हक की पत्नी परवीन आजाद की शिकायत पर दर्ज कराई गई है। परवीन ने अपने पति की हत्या के लिए राजा भैया समेत पांच लोगों पर आरोप लगाए थे। लेकिन राजा भैया कब गिरफ्तार होंगे फिलहाल इसका जवाब किसी के पास नहीं है।
सीबीआई ने अपनी पहली एफआईआर कुंडा के बलीपुर गांव के ग्राम प्रधान नन्हें यादव की हत्या में दर्ज की है। इसमें सीबीआई ने कमलकांत पाल, अजय कुमार पाल, अजीत कुमार सिंह और राजीव सिंह को आरोपी बनाया गया है। चारों आरोपियों के खिलाफ हत्या और क्रमिनिल अमेंडमेंट एक्ट के तहत मुकदमे दर्ज किये गए हैं। सीबीआई ने दूसरी एफआईआर डीएसपी जिया उल हक की हत्या के मामले में दर्ज की है। इसमें कुंडा के बलीपुर के थाना इंजार्च मनोज शुक्ला की शिकायत पर सीबीआई ने डीएसपी हत्या मामले में कुल दस लोगों को आरोपी बनाया है। इन सभी के खिलाफ हत्या, डकैती, सरकारी काम में बाधा डालने सहित कई धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। तीसरी एफआईआर प्रधान नन्हें यादव के भाई सुरेश यादव की हत्या के मामले में दर्ज हुई है। सीबीआई ने इस हत्या के मामले में पांच लोगों को आरोपी बनाया है। चौथी और अंतिम एफआईआर डीएसपी जिया उल हक की पत्नी परवीन आजाद की शिकायत पर दर्ज हुई है। इसमें राजा भैया के अलावा उनके करीबी गुलशन यादव, हरीओम श्रीवास्तव, राजा भैया के गनर रोहित सिंह और उनके ड्राइवर गुड्डू सिंह पर मुकदमा दर्ज किया गया है।
मुकदमा दर्ज करने के बाद सीबीआई ने मामले की जांच के लिेए दस तेज तर्रार अधिकारियों की टीम का गठित की है। ये टीम स्पेशल क्राइम यूनिट के एक आला अधिकारी की निगरानी में जांच पूरी करेगी। मुकदमा दर्ज होने के बाद सीबीआई की टीम कुंडा के लिए रवाना हो गई। शुक्रवार को कुंडा पहुंचने के बाद सीबीआई सबसे पहले क्राइम सीन यानी बलीपुर गांव जाएगी और वहां चश्मदीदों के साथ साथ उन पुलिसवालों से भी पूछताछ की जाएगी जो घटना के समय मौके पर थे।

LEAVE A REPLY