वायु सेना प्रमुख का नासिक और बैंगलोर दौरा

0
9
1.         वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल अरूप राहा आज से दो दिन के नासिक और बैंगलोर के दौरे पर हैं। वे वहां पर प्रबंधन कमान इकाइयों की परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा करेंगे। वे नासिक और बैंगलोर में एचएएल के दोनों विभागों का दौरा भी करेंगे। उनके साथ रक्षा उत्‍पादन सचिव श्री जी सी पति भी जाएंगे। वे, वायुसेना प्रमुख को एचएएल के तहत आने वाली सभी विमान परियोजनाओं के प्रबंधन के लिए एचएएल और आईएएफ के बीच सहयोग बढ़ाने पर जानकारी उपलब्‍ध कराएंगे। जब से वायुसेना की चालन क्षमताएं एचएएल पर निर्भर हुई हैं, तब से इन दौरों का महत्‍व बढ़ गया है।
2.         नासिक पहुंचने पर वायु सेना प्रमुख और रक्षा उत्‍पादन सचिव का स्‍वागत एयर कमोडोर एस पडगांवकर करेंगे और उन्‍हें इस महत्‍वपूर्ण प्रबंधन सहायता आधार की गतिविधियों की जानकारी देंगे। इस दौरान वायुसेना प्रमुख बीआरडी के उपकरण और संरचना का भी अवलोकन करेंगे। नासिक के एचएएल विभाग पहुंचने पर दोनों का स्‍वागत एचएएल अध्‍यक्ष डॉ. आर के त्‍यागी करेंगे। नासिक का यह विभाग में एसयू-30 का निर्माण लाइसेंस, मरम्‍मत, जांच और मिग श्रृंखला विमान का उन्‍नयन की गतिविधियों में शामिल है। यह विभाग कलपुर्जों की सप्‍लाई भी करता है। वायु सेना प्रमुख, 25 ईडी स्थित भारतीय वायुसेना के माल प्रबंधन संस्‍थान का दौरा भी करेंगे।

3.         एचएएल के अध्‍यक्ष, वायुसेना प्रमुख और रक्षा उत्‍पादन सचिव के साथ बैंगलोर जाएंगे। वे वहां पर सबसे पहले एचएएल विभाग जाएंगे, जहां एलसीए हॉक्‍स, जगुआर उन्‍नयन और एलसीएच जैसी कई परियोजनाएं चल रही हैं। एचएएल, भारतीय वायुसेना के आधुनीकीकरण योजना में प्रमुख भागीदार है, इसलिए इस तरह के दौरों से वायुसेना की परियोजनाओं को नई ऊर्जा मिलेगी। इसके बाद वे उपकरण डिपो-26 ईडी जाएंगे। डिपो का मुख्‍य उद्देश्‍य मरम्‍मत करने योग्‍य इकाइयां और कलपुर्जे उपलब्‍ध कराना है। वायुसेना और एचएएल के बीच यह एक प्रभावी प्रक्रिया है और यह विभिन्‍न हथियार तंत्र का प्रबंधन करता है।

LEAVE A REPLY