पार्सल मजदूर का खतरनाक कदम

54
गया,  रेलवे के पार्सल कार्यालय में ठेके पर काम करने वाले मजदूर हर दिन जीने के लिए मौत से लड़ते हैं। अपनी जान को जोखिम में डाल कर पार्सल से भेजे जाने सामान के बंडल को उस ट्रेन में लोड करते हैं। जिस ट्रेन से बुक माल को गंतव्य स्टेशनों के लिए भेजा जाना होता है। गुरूवार को दोपहर बाद गया जंक्शन के एक नंबर प्लेटफार्म पर कोयला लदी एक मालगाड़ी रुकी हुई थी। इसी प्लेटफार्म पर पार्सल कार्यालय भी है। इस बीच सूचना प्रसारित हो रही थी कि 18104 डाउन अमृतसर-टाटा जलियावाला बाग एक्सप्रेस तीन नंबर प्लेटफार्म पर आ रही है। इस उद्घोषणा को सुनने के बाद पार्सल के मजदूर एक नंबर प्लेटफार्म पर रुकी मालगाड़ी के दो बोगियों के बीच से सिर पर बंडल लेकर पार कर तीन नंबर प्लेटफार्म पर जाने लगे। इस बात की इन्हें अंदाजा नहीं कि कब मालगाड़ी खुल जाएगी। क्योंकि मालगाड़ी के खुलने की सूचना पूछताछ या डिप्टी एसएस कार्यालय से प्रसारित नहीं की जाती। इस तरह के जोखिम उठाने के बारे में जब मजदूरों से पूछा तो जवाब मिला- अमृतसर-टाटा एक्सप्रेस के यहां ठहराव केवल पांच मिनट ही है। यदि पुल (फुट ओवर ब्रिज) से जाएंगे तो समय काफी लग जाएगा। सीढि़यों से होकर माल को नहीं ले जाया सकता। ऐसे में सामान लोड नहीं हो पाएगा। आगे कहा कि तीसरा फुट ओवर ब्रिज भी नहीं बना है। ताकि ट्राली से माल को दूसरे प्लेटफार्म तक ले जाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here