बुलंदशहर गैंगरेप: SC की आजम को फटकार, पूछा-क्या रेप को राजनीतिक साजिश बताना फ्रीडम ऑफ स्पीच है? CBI जांच पर रोक

0
11

मेरठ/नई दिल्ली.बुलंदशहर गैंगरेप मामले में दिए गए विवादित बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के मिनिस्टर आजम खान को सोमवार को फटकार लगाई। कोर्ट ने पूछा कि क्या यह बयान फ्रीडम ऑफ स्पीच और एक्सप्रेशन (बोलने और अभिव्यक्ति की आजादी) का हिस्सा हो सकता है? कोर्ट ने आजम और यूपी सरकार को नोटिस जारी कर तीन हफ्ते में जवाब मांगा है। वहीं, सीबीआई जांच पर भी रोक लगा दी गई है। बता दें कि आजम खान ने मामले को ‘राजनीतिक साजिश’ बताया था। केस की सीबीआई जांच पर रोक…

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस मामले की सीबीआई जांच का आदेश दिया था, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में तीन कॉन्स्टिट्यूशन सवाल उठाए हैं।
इनमें मदद के लिए सीनियर एडवोकेट एफएस नरीमन को एमिकस क्यूरी (न्याय-मित्र) अप्वॉइंट किया गया है।

ये हैं सुप्रीम कोर्ट के 3 सवाल
1-क्या सरकार के अहम ओहदे पर बैठा शख्स कह सकता है कि ऐसी घटनाएं राजनीतिक साजिश के तहत होती हैं? वह भी तब, जबकि उसका इससे कोई लेना-देना नहीं?
2-क्या लोगों के हितों की हिफाजत करने वाली राज्य सरकार ऐसे बयान की इजाजत दे सकती है, जिससे विक्टिम केस की निष्पक्ष जांच में भरोसा खो देंगी?
3-क्या ऐसे बयान को फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन (अभिव्यक्ति की आजादी) माना जाए या समझा जाए कि कॉन्स्टिट्यूशन में यह अधिकार शामिल करना नाकाम साबित हुआ है?

विक्टिम के पिता को जांच पर शक
विक्टिम के पिता ने सुप्रीम कोर्ट में आजम के बयान का हवाला देकर केस की जांच पर शक जताया था।
उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से केस की सुनवाई दिल्ली ट्रांसफर करने और आजम पर एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी।
इस पर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस दीपक मिश्रा और सी. नागप्पन की बेंच ने कहा कि राज्य के मंत्री आजम खान का ऐसा बयान जांच और पूरे सिस्टम पर शक पैदा करता है।

गैंगरेप पर ये था आजम का बयान

आजम ने कहा था, ”हमें इस तरह से भी देखना चाहिए कि कहीं कोई विपक्षी विचारधारा जो सत्ता में आना चाहती है, सरकार को बदनाम करने के लिए कोई कुकर्म तो नहीं कर रही? कुछ भी हो सकता है।”

फटकार के बाद भी बयान पर अड़े आजम
सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भी आजम अपने बयान पर कायम हैं।
उन्होंने कहा, “मैंने ऐसा क्या कहा जिस पर एतराज जताया गया? अपराध पर ढिलाई बरतने का तो सवाल ही नहीं है।’
‘लगातार एक जैसी रेप की घटनाएं हों, तो सरकार का फर्ज बनता है कि इसके पीछे की सच्चाई का पता लगाए।

आजम ने लखनऊ में कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो कहा मैं उसका स्वागत करता हूं। मैंने विक्टिम या उनके परिवार के खिलाफ कुछ नहीं कहा। मैंने यही कहा कि एक ही दिन में ऐसे चार से पांच मामले सामने आए थे। इसके पीछे कोई साजिश हो सकती है।

क्या था मामला?
उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में नेशनल हाईवे-91 पर बदमाशों ने 29 जुलाई को मां-बेटी के साथ गैंगरेप किया था।
उनके साथ कार से जा रहे परिवार के बाकी लोगों से मारपीट और लूटपाट की गई थी।

[content-egg module=CjLinks]

[content-egg module=Amazon]

LEAVE A REPLY