भ्रष्टाचारी नेता काले धन को बचाने की तरकीब धुंडने निकले

0
8

माया का मायाजाल
बहनजी ने प्रत्याशियों को बुलाकर लौटाई रकम इसके साथ उन्हें ये सलाह भी दी है कि वह अपने क्षेत्र के किसानों को यह रकम देकर बाद में उनसे वापस ले लें. क्यों कि किसानों को इनकम टैक्स नहीं भरना पड़ता है. मंगलवार को देर रात चार घंटे तक चली इस बैठक के अंत में यह फैसला लिया गया कि जिन प्रत्याशियों से टिकट देने के नाम पर पैसा लिया गया है, उन्हें ये रकम वापस दे दी जाये और बाद में उनसे ये रकम वापस ले ली जाये.

इस बात का उल्लेख लखनऊ दूरदर्शन के पत्रकार अशोक त्रिपाठी ने बुधवार कि शाम अपनी फेसबुक पर भी किया है. उन्होंने अपनी फेसबुक पर जो लिखा है उसमें कहा गया है कि दिन भर बसपा के पार्टी कार्यालय पर विधायकों, प्रत्याशियों की अनिवार्यरूप से गाड़ियों के साथ रेलमपेल लगी रही.

विधायकों के पैसे बांटने की एक तस्वीर वायरल
अब यहाँ देखे देश के सबसे बड़े दानवीर विधायक को ये तस्वीर कर्नाटक के कोलार से आई है. सोने की खान के लिए मशहूर कोलार में विधायकों के पैसे बांटने की एक तस्वीर वायरल है दावा है कि विधायकों ने 500 और हजार के नोट खपाने के लिए गरीबों में कर्ज के तौर पर बांट दिए.

तस्वीर के साथ दावा है कि मंच पर सजी नोटों की इन गड्डियों के साथ जो लोग बैठे दिखाई दे रहे हैं वो कर्नाटक के कोलार के कुछ विधायक हैं इन लोगों को जैसे ही खबर लगी कि 500 और 1 हजार के नोट बंद होने वाले हैं उन्होंने जररूरत मंदों को कर्ज के तौर पर पैसा बांट दिया ताकि बाद में काले धन को नए नोट के तौर पर वापस ले सकें.

तस्वीरों में बंगारपेट के एमएलए और कांग्रेस नेता एसएन नारायण स्वामी के साथ बैंक प्रेसीडेंट बयलाहल्ली गोविंद गौड़ा हैं. यहाँ विधायक पैसे बांट रहे थे तो इनके साथ बैंक प्रेसीडेंट मौजूद रहे. वायरल हो रही इन तस्वीरों के साथ एक मैसेज भी है जिसमें लिखा है, ”कोलार में आज सुबह विधायकों और नेताओं ने एक सभा का आयोजन किया और एक -एक शख्स को 3 लाख रुपए कर्ज के तौर पर बांट दिए. वहां मौजूद लोगों को लगा कि ये सब अच्छा काम कर रहे हैं लेकिन सच ये है कि ये नोट अब बेकार हो चुके हैं और इन्हें बदलने के लिए बैंक में पहचान पत्र दिखाना होगा.

LEAVE A REPLY