देश में हर तरफ गरबा और डांडिया की धूम.

0
37

वरात्रि आते ही हर तरफ गरबा और डांडिया की धूम शुरू हो जाती है। पारंपरिक अंदाज में सजे हर उम्र के लोग गरबा का जमकर लुत्फ उठाते हैं। गरबा सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है और अश्विन मास की नवरात्रों को गरबा नृत्योत्सव के रूप में मनाया जाता है। इस दौरान सभी लोग पारंपरिक परिधान पहनते हैं। लड़कियां चनिया-चोली पहनती हैं और लड़के गुजराती केडिया पहनकर सिर पर पगड़ी बांधते हैं।

आदिशक्ति मां अंबे और दुर्गा की आराधना के साथ ही दस दिनों तक समूचा डांडिया देवी पूजा के रंग में रंगा नजर आएगा. लोगों को इस बार नवरात्र मनाने और गरबा करने के लिए दस दिन मिलेगा. पंचांग के अनुसार एक और दो अक्टूबर को पडवा (एकम) एक ही तिथि दो दिन पड़ रहा है.

आपको बता दें कि वैसे तो गरबा गुजरात, राजस्थान और मालवा प्रदेशों में प्रचलित एक लोकनृत्य है लेकिन इसे करने वाले सबसे ज्यादा गुजराती होंते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह नृत्य मां दुर्गा को काफी पसंद हैं इसलिए नवरात्रि के दिनों में इस नृत्य के जरिये मां को प्रसन्न करने की कोशिश की जाती है।

गरबा का संस्कृत नाम गर्भ-द्वीप है। गरबा के आरंभ में देवी के निकट सछिद्र कच्चे घट को फूलों से सजा कर उसमें दीपक रखा जाता है। इस दीप को ही दीपगर्भ या गर्भ दीप कहा जाता है। यही शब्द अपभ्रंश होते-होते गरबा बन गया।इस गर्भ दीप के ऊपर एक नारियल रखा जाता है। नवरात्र की पहली रात्री गरबा की स्थापना कर उसमें ज्योति प्रज्वलित की जाती है।

इसके बाद महिलाएं इसके चारों ओर ताली बजाते हुए फेरे लगाती हैं। गरबा नृत्य में ताली, चुटकी, खंजरी, डंडा या डांडिया और मंजीरा आदि का इस्तेमाल ताल देने के लिए किया जाता है। महिलाएं समूह में मिलकर नृत्य करती हैं। इस दौरान देवी के गीत गाए जाते हैं।

अगर नवरात्रि में गुजरातियों के पारंपरिक नृत्य गरबा में जाने की तैयारी कर रही हैं तो क्यों न कुछ गुजराती स्टाइल हो जाए। इस नवरात्रि गरबा के दौरान लड़कियों में पारंपरिक कपड़ों ज्वैलरी और बॉडी कलर पेंटिंग का खासा क्रेज है।

नवमी के दिन लोग गाते, ढोल ताशे बजाते, गरबा करते घटस्थापन का नजदीक के मंदिर में विसर्जन करने जाते हैं. नवरात्र पर्व मां अंबे दुर्गा के प्रति श्रद्धा प्रकट करने तथा युवा दिलों में मौज-मस्ती के साथ गराबा-डांडिया खेलने और अपनी संस्कृती से जुड़ने का सुनहरा अवसर भी है.

LEAVE A REPLY