आपदा जोखिम को कम करने हेतु एशियाई मंत्रिस्‍तरीय सम्‍मेलन का आयोजन अगले माह नई दिल्‍ली में होगा

0
60

भारत सरकार प्रथम बार आपदा जोखिम को कम करने के लिए एशियाई मंत्रिस्तरीय सम्मेलन (एएमसीडीआरआर) की मेजबानी कर रही है। इस सम्‍मेलन को आयोजन आपदा जोखिम न्‍यूनीकरण के लिए सेंडाइ फ्रेमवर्क (एसएफडीआरआर) को अपनाने के बाद किया जा रहा है।

जापान के सेंडाइ में मार्च, 2015 में डीआरआर पर तृतीय विश्व सम्मेलन में एसएफडीआरआर (2015-2030) को अपनाया गया था। भूकंप, बाढ़, सूखा और चक्रवात जैसे प्राकृतिक खतरों के कारण से होने वाले नुकसान को कम करने और आपदा जोखिम की रोकथाम के लक्ष्य और प्राथमिकता के तौर पर कार्रवाई वाले क्षेत्रों की पहचान करने एवं 2015 के बाद विकास एजेंडे की दिशा में यह प्रथम प्रमुख समझौता है। सरकारों को प्राथमिक हितधारकों के रूप में सूचीबद्ध करते हुए यह स्थानीय सरकारों और निजी क्षेत्र सहित अन्य लोगों के साथ साझा जिम्मेदारी का भी आह्वान करता है।

एएमसीडीआरआर का आयोजन नई दिल्‍ली के विज्ञान भवन में 3 से 5 नवम्बर, 2016 को किया जाएगा और इससे एशियाई क्षेत्र में इस प्रारूप के कार्यान्वयन की दिशा में मार्ग प्रशस्त होगा। यह अपनी प्रगति की निगरानी के लिए एक तंत्र का भी सृजन करेगा।

इस सम्‍मेलन में भाग लेने वाले हितधारकों में शामिल सरकारें, गैर सरकारी संगठन, शिक्षा विद, नागरिक समाज, स्वयंसेवक और अन्‍य लोग सहयोग, परामर्श और सभी के बीच आपसी तालमेल के माध्यम से कार्रवाई योग्‍य प्रतिबद्धताओं पर सामंजस्‍य बनायेंगे।

इस सम्‍मेलन में सेंडाइ फ्रेमवर्क के कार्यान्‍वयन के लिए एशियाई क्षेत्रीय योजना’ को भी अपनाया जाएगा। सेंडाई प्रारू़प पर आगे कदम बढ़ाते हुए यह स्पष्‍ट किया गया है कि आपदा जोखिम का कम करने के लिए सभी स्‍तरों पर क्‍या कदम उठाये जाने की आवश्‍यकता है और इस योजना पर कैसे राष्‍ट्रीय और स्‍थानीय स्‍तरों पर ध्‍यान केंद्रित किया जाएगा। सम्‍मेलन में सहयोग और सामंजस्‍य के माध्‍यम से एक लंबी अवधि का रोडमैप भी तैयार किया जाएगा। सेंडाइ फ्रेमवर्क की 15 वर्षीय अवधि के साथ ही विशिष्ट कार्रवाई की गतिविधियों के साथ आपदा जोखिम में कमी लाने के लिए एक दो वर्षीय कार्य योजना को अंजाम दिया जाएगा।

अन्य परिणामों में, नई दिल्ली घोषणा के तहत सहभागी सरकारों की प्रतिबद्धता में आपदा जोखिम को कम करना, और समुदायों, जातियों और एशियाई क्षेत्र को इस दिशा में मजबूत बनाना भी शामिल है।

इसके अतिरिक्‍त, एसएफडीआरआर के कार्यान्‍वयन में ‘साझा जिम्‍मेदारी’ के दृष्‍टिकोण के उद्देश्य से कार्य करने की दिशा में हितधारक समूह भी अपने विचार व्‍यक्‍त करेंगे।

2005 में स्थापित, एएमसीडीआरआर विभिन्न एशियाई देशों और आपदा जोखिम को कम करने हेतु संयुक्त राष्ट्र द्वारा संयुक्‍त रूप से आयोजित एक द्विवार्षिक सम्मेलन है।

LEAVE A REPLY