इंदौर-पटना एक्सप्रेस में क्षमता से अधिक डिब्बे जोड़े गए थे, यात्रियों को लग रहे थे झटके: सूत्र

0
5

नई दिल्ली: इंदौर-पटना एक्सप्रेस रेल हादसे को लेकर नया खुलासा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक हादसे वाले दिन इंदौर-पटना एक्सप्रेस में अतिरिक्त डिब्बा लगाया गया था। इसकी वजह से ट्रेन में डिब्बों की संख्या क्षमता से ज्यादा हो गई थी। बताया जा रहा है कि ट्रेन में कोच एस-1 के साथ अतिरिक्त डब्बा बी-3 को लगाया गया था। इसके बाद ट्रेन में कोचों की कुल संख्या क्षमता से ज्यादा यानी 23 हो गई।

इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन में डिब्बों की संख्या सिर्फ 22 है लेकिन अतिरिक्त डिब्बा (बी-3) जोड़े जाने से इसमें कोचों की संख्या 23 हो गई। सूत्रों के मुताबिक दो डिब्बों यानी एस-1 और बी-3 से यात्रियों को तेज आवाजें आ रही थी। दोनों डिब्बों की वजह से यात्रियों को तेज झटके लग रहे थे।

गौर हो कि कानपुर देहात जिले के पुखरायां में रविवार तड़के हुए इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसे में मृतक संख्या बढ़कर 146 हो गई है। रविवार तड़के करीब तीन बजे हुए इस हादसे में रेलगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। अब तक 146 लोगों की मौत हो चुकी है और बड़ी संख्या में लोग घायल हैं। मृतकों में से 110 लोगों की पहचान की जा चुकी है और 97 शव परिजनों को सौंप दिए गए हैं।

करीब 108 किलोमीटर गति से दौड़ रही इंदौर-पटना एक्सप्रेस के पांच कोच हादसे के बाद एक दूसरे पर चढ़ गए तथा पांच पटरी से उतर गए। बी-3, बीईएक्स-वन तथा एस वन कोच के परखचे उड़ जाने के कारण सबसे ज्यादा मौतों इन्हीं कोचों में हुई। तीनों कोच को गैस कटर से काटकर घायलों और मृतकों को निकाला गया।

LEAVE A REPLY