RIO:भारत के लिए अच्छी खबर ललिता पहुंची फाइनल में

0
33

नई दिल्ली। रियो ओलंपिक से भारत के लिए एक अच्छी खबर आई है, ललिता बाबर 3000 मीटर स्टीपलचेस के फाइनल में पहुंच गई है और भारत की मैडल की आस बंध गई है। फाइनल में पहुंचने वाली वह तीन दशक में पहली भारतीय महिला भी बन गई हैं। महाराष्ट्र के सातारा जिले में रहने वाली एथलीट ललिता क्वालीफाइंग हीट में दूसरे नंबर पर रहकर फाइनल में पहुंची है। उन्हाेंने 9 मिनट 19.76 सेकंड का नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी बनाया। दूसरी ओर सुधा सिंह तीसरी हीट में खराब प्रदर्शन के चलते बाहर हो गई।

दक्षिण कोरिया में इंचियोन एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली ललिता फाइनल में पहुंचने वाली पीटी ऊषा के बाद दूसरी भारतीय एथलीट हैं। गौरतलब है कि पीटी ऊषा 1984 में लास एंजिलिस ओलंपिक में महिलाओं की 400 मीटर बाधा रेस के फाइनल में पहुंची थीं लेकिन वह कुल पलों के अंतर से कांस्य पदक जीतने से चूक गई थीं। ललिता ने हीट में 7 वे स्थान पर रहकर सुधा का मई में बनाया नौ मिनट 26.55 सेकंड का राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ा।

इस हीट से शीर्ष 3 एथलीटों ने क्वालीफाई किया जबकि ललिता बाकी 6 सबसे तेज धावकों में रहकर फाइनल में पहुंच गई हैं। यदि वह तीसरी हीट में होती तो उसे जीतकर क्वालीफाई कर लेती। देश की स्वतंत्रता दिवस के दिन ही ललिता अपना फाइनल मुकाबला खेलेंगी, उम्मीद है कि वह इस स्वतंत्रता दिवस पर देशवासियों को मैडल के तौर पर सौगात देंगी।

LEAVE A REPLY