गोवा में धावलीकर पर शेर घोटाला का आरोप

0
15
पणजी:  गोवा के एक सार्वजनिक पार्क में लगे शेरों की चार
आकर्षक प्रतिमाओं से एक और विवाद खड़ा हो गया है। इन शेरों में से हर एक अलग-अलग ग्रेनाइट
ब्लॉक से बनाए गए हैं और पणजी से करीब 30
किलोमीटर दूर पोंडा के क्रांति मैदान के सौंदर्यीकरण के तहत लगाए
गए हैं। कांग्रेस पार्टी इन प्रतिमाओं के खिलाफ उठ खड़ी हुई है।
कांग्रेस
ने लोक निर्माण मंत्री सुदीन धावलीकर पर कस्बे की एक मात्र खुली जगह को भी राजनीतिक
रंग देने की कोशिश करने का आरोप लगाया है। धावलीकर सत्ताधारी महाराष्ट्रवादी गोमांतक
पार्टी (एमजीपी) के संरक्षकों में से एक हैं। एमजीपी गोवा की सबसे पुरानी क्षेत्रीय
पार्टियों में से एक है जिसका अधिकृत चिन्ह शेर है।
कांग्रेस
के संगठन सचिव दुर्गादास कामत ने कहा, “वे
सार्वजनिक धन से सार्वजनिक पार्क को अपने राजनीतिक रंग में रंगने का प्रयास कर रहे
हैं।” एमजीपी और धावलीकर दोनों ने घोटाले के आरोपों को खारिज किया है और कहा है
कि 4.26 करोड़ रुपये की परियोजना
को अमलीजामा पहनाने से पहले सभी नियम-कायदे का पालन किया गया है।

कामत
ने दावा किया कि खुली सार्वजनिक जगह को हड़पने का प्रयास ठीक उसी तरह से किया गया है
जैसा मायावती ने उत्तर प्रदेश के सभी बड़े कस्बों में अपनी आदमकद प्रतिमाएं लगवाने
का विवादास्पद प्रयास किया था। कामत ने आरोप लगाया, “मायावती
और उनकी बसपा की तरह वे भी सार्वजनिक स्थल पर एमजीपी की राजनीतिक मुहर लगाने का प्रयास
कर रहे हैं। जहां उन्होंने (मायावती) करोड़ों रुपये खर्च कर हाथी लगवाए, गोवा में धावलीकर अपने मंत्रालय का इस्तेमाल
कर शेर बनवा रहे हैं। निविदा के दस्तावेजों के मुताबिक हर शेर की लागत 18 लाख रुपये है।”

LEAVE A REPLY