मेडिसन स्क्वायर ‘मोदीसन’ हुआ

0
10
लोकतंत्र, युवा शक्ति और मांग ये तीन चीजें किसी के पास नहीं 
ऐसा कुछ नहीं करूंगा जिससे नीचा देखना पड़े
न्यूयॉर्क। मेडिसन स्क्वायर पर ऐतिहासिक भाषण के दौरान पूरा माहौल मोदीमय हो गया था। ऐसा लग रहा था मानो मेडिसन स्क्वायर, ‘मोदीसन’ स्क्वायर में बदल गया है। अपने संबोधन से तो पीएम मोदी ने मन मोहा ही साथ ही अप्रवासी भारतियों को कई सौगातें भी दी। इसमें वीजा पॉलिसी को सरल करने संबंधि कई घोषणाएं शामिल है।
इससे पहले मोदी- मोदी नारे के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत माता की जय के साथ अपना संबोधन शुरू किया। अमेरिका में बसे प्यारे भाइयों और बहनों और भारत में टीवी और इंटरनेट के माध्यम से कार्यक्रम को देखने वाले लोगों को उन्होंने अभिवादन करते हुए नवरात्र की शुभकामना दी।
मोदी ने कहा कि आज देश के लोग बदलाव चाहते हैं। उन्होंने कहा कि लोगों ने जिस विश्वास के साथ उन्हें चुना है उसपर वह पूरी तरह से खरा उतरने की कोशिश करेंगे। यह सरकार आम लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने में शतप्रतिशत खरी उतरेगी। हम देश को आर्थिक तौर पर मजबूत बनाएंगे। मोदी ने कहा कि यह सदी एशिया की सदी है। लोग तो यह भी कहते हैं यह भारत की सदी है। यह बात ऐसे ही नही कहा जा रहा है। हमारे पास इसे चरितार्थ करने के लिए सामर्थ भी है और संयोग भी है।
आपके मन में भी भारत से कई अपेक्षाएं हैं। भारत के लोगों में भी सरकार से कई अपेक्षाएं हैं। मैं विश्वास से कह सकता हूं कि यह सरकार इन आकांक्षाओं को पूरा करने में 100 फीसद सफल होगी।
मोदी ने कहा कि हम ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे जिसके कारण आपको नीचा देखने की नौबत आए। भारत एक ऐसा अद्भुत देश है जहां सबसे पुरानी सभ्यता है और आबादी सबसे युवा है। हमारे देश के लोग पूरे विश्व में फैले हुए हैं और जहां भी हैं वहां के विकास में अपना योगदान दे रहे हैं।
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने अमेरिकी दौरे के सबसे बड़े शो के लिए मेडिसन स्क्वॉयर पहुंचे। कार्यक्रम स्थल मेडिसन स्क्वॉयर लोगों से खचाखच भरा है। वहां सांस्कृतिक कार्यक्रम शुरू हो गया है। लोग नाच, गा, झूम रहे हैं। भारत की मशहूर गायिका कविता कृष्णमूर्ति ने महात्मा गांधी का प्रिय भजन वैष्णव जन ..को गाकर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम को पूर्व मिस अमेरिका नीना दावुलुरी और पत्रकार हरि श्रीनिवासन होस्ट कर रहे हैं।

कार्यक्रम शुरू होने से घंटों पहले से ही मेडिसन स्क्वायर पूरी तरह से मोदीमय हो चुका था। वहां भारतीयों का हुजूम उमड़ पड़ा। लोग सजधज कर वहां पहुंचे। वे भारत से पहुंचे मीडिया से बाते कर रहे हैं। वहां का माहौल पूरी तरह से त्यौहार जैसा है। कार्यक्रम के लिए टिकटें तो पहले ही बिक चुकी है लेकिन जिन्हें टिकट नहीं मिला है वे भी किसी न किसी तरह से इस ऐतिहासिक पल का हिस्सा बनना चाहते हैं।
लोग मोदी और भारत के पक्ष में नारे लगा रहे हैं। लोग झूम रहे हैं, गा रहे हैं, पूरी तरह से अद्भुत माहौल है। एक गर्वनर समेत अमेरिका के कम से कम 46 निर्वाचित अधिकारियों और कांग्रेस के 45 सदस्य यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत समारोह में शामिल हुए। समारोह में 16 हजार से अधिक आम लोग और करीब 2,600 अतिविशिष्ट मेहमान शामिल हुए।
इन खास मेहमानों में एक गवर्नर, सीनेटर और अमेरिका के दूसरे निर्वाचित पदाधिकारी शामिल हैं। ‘इंडियन अमेरिकन कम्युनिटी फाउंडेशन’ (आईएसीएफ) ने उन लोगों के नामों की सूची जारी की , जिन्होंने इस कार्यक्रम में शामिल होने की पुष्टि की थी।

ऐतिहासिक है मेडिसन स्कवायर गार्डेन

न्यूयार्क स्थित मेडिसन स्क्वायर गार्डेन [एमएसजी] अमेरिका के खेल और संगीत का बड़ा और पुराना केंद्र रहा है। 1.1 अरब डॉलर की लागत से तैयार हुआ यह केंद्र धरती पर बने अब तक के सबसे महंगे शीर्ष दस स्टेडियमों में से एक है। 11 फरवरी, 1968 को इसको खोले जाने के बाद से बॉस्केटबाल, आइस हॉकी, बॉक्सिंग, कंसर्ट, आइस शो, सर्कस और खेल व मनोरंजन क्षेत्र के अन्य विधाओं का अनवरत आयोजन किया जा रहा है। इस खास स्थल पर पेश है एक नजर:
क्षेत्रफल : 8.20 लाख वर्ग फीट
नामकरण: इसका नाम अमेरिका के चौथे राष्ट्रपति जेम्स मेडिसन के नाम पर रखा गया।
आयोजन: इस जगह पर मनोरंजन और खेल से जुड़े कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। बॉक्सिंग और नेशनल हॉकी के कई ऐतिहासिक मैच का गवाह रहेइस मैदान में दुनिया की नामचीन हस्तियों के कई यादगार लाइव कंसर्ट भी हुए हैं। एक साल में यहां 320 कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
खास आयोजन
– 1980 में यहां पहली महिला जूडो विश्व चैंपियनशिप का आयोजन किया गया।
– 1988 और 2001 में संगीत की दुनिया के सरताज माने जाने वाले माइकल जैक्सन ने लाइव शो किया।
– 2011 में लेडी गागा के चर्चित टूर द मोंसटर बॉल का आयोजन भी यहीं हुआ।
-ख्याति प्राप्त बीटल्स ग्रुप भी अपना कंसर्ट कर चुका है।
– संगीत के क्षेत्र में दिए जाने ग्रैमी अवार्ड के समारोह का आयोजन भी यहां कई बार किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY