मनमोहन सिंह: नोटबंदी से 2 फीसदी घटेगी GDP, ऐतिहासिक बदइंतज़ामी

0
9

नोटबंदी पर संसद में एक बार फिर शुरू हुई बहस के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को निशाने पर लिया. राज्यसभा में विमुद्रीकरण के मुद्दे पर चर्चा हो रही है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सदन में मौजूद हैं.

इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार तुरंत चर्चा के लिए तैयार है. कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के बयान के बाद जेटली ने चर्चा पर अपनी सहमति जताई. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस इस फैसले के विरोध में नहीं है, लेकिन लोगों को हो रही असुविधा पर उसे चिंता है.

चर्चा में सबसे पहले अर्थशास्त्री और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने सदन को संबोधित किया. मनमोहन सिंह ने इस दौरान कहा कि मोदी सरकार की नीयत पर शक नहीं है, लेकिन हकीकत यह है कि नोटबंदी के फैसले को लागू करने में ऐतिहासिक कुप्रबंधन किया गया. एक नजर उनके संबोधन के अहम बिंदुओं पर:

1. जनता को आ रही दिक्कतों पर सरकार को खास ध्यान देने की जरूरत है. सरकार के उद्देश्य पर सवाल नहीं उठा रहे हैं.

2. 60-65 लोगों ने अपनी जान गंवा दी, जो कुछ भी अब तक हुआ है उससे हमारे लोगों का करेंसी और बैंकिंग व्यवस्था में भरोसा कमजोर होगा.

3. प्रधानमंत्री ने कहा कि 50 दिन का इंतजार कीजिए, लेकिन गरीब तबके के लिए ये 50 दिन का टॉर्जर काफी नुकसानदायक हो सकता है.

4. मैं प्रधानमंत्री से पूछना चाहता हूं कि किसी एक देश का नाम बताएं, जहां लोगों ने अपना पैसा जमा कर दिया लेकिन वे इसे निकाल नहीं सकते हैं.

5. पीएम कुछ रचनात्मक प्रस्ताव लेकर आएं कि कैसे वे इस योजना को लागू कर सकते हैं?

LEAVE A REPLY