हमारा मकसद वित्तीय तंत्र को मजबूत करनाः प्रधानमंत्री

0
11

चीन के हांगझू में रविवार को विश्व में शक्तिशाली संगठन के रूप में पहचान रखने वाले संगठन जी-20 के सम्मेलन में पहले दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विश्व को आर्थिक विकास और आपसी भागीदारी का मूल मंत्र दिया।

नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमारा लक्ष्य वित्तीय व्यवस्था में सुधार, घरेलू उत्पादन में इजाफा, बुनियादी ढांचे में सुधार और मानव संसाधन का विकास करना है। उन्होंने कहा कि हमें निर्णायक कदम उठाने होंगे ताकि वैश्विक अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ सके और पूरी दुनिया को इसका लाभ मिले। “time india”, “Indian”, “times of india”

उन्होंने कहा कि हमारी चुनौतियां साझा हैं, इसी तरह हमारे अवसर भी समान हैं, डिजिटल क्रांति और नई तकनीकों के ज़रिये वैश्विक विकास की नींव रखी जाएगी।  “latest news in india”, “breaking news in hindi” 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जी-20 देश अर्थव्यवस्था के विकास के लिए जो कदम उठा सकते हैं, उनमें डिजिटल तकनीक तक आसान पहुंच, डिजिटल गैप को खत्म करना, नई तकनीकी के विकास की बाधाएं खत्म करना कौशल विकास को बढ़ावा देना शामिल हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री ने दुनिया में विकास और सुधार के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रयासों की भी सराहना की। “nbc news”, “business news”, “india news today”

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने उद्बोधन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कर सुधारों को लेकर उठाए गए कदमों की तारिफ की। उन्होंने मौजूदा वैश्विक आर्थिक परिस्थितियों में प्रधानमंत्री द्वारा उठाए गए कड़े कदमों को सराहा। “news articles”, “news paper”, “headlines”, “cnn”, “channel 12 news”

इससे पहले शिखर बैठक के अध्यक्ष और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने 11वें जी-20 सम्मेलन की शुरूआत की घोषणा की। उन्होनें सदस्य देशों से आर्थिक विकास में अपनी भागीदारी को समझेने और चुनौतियों के समाधान के लिए आगे आने की अपील की। जिनपिंग ने विश्व के शासन और आर्थिक विकास में जी-20 देशों की भूमिका पर जोर दिया।

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और उनकी पत्नी ने जी-20 बैठक में हिस्सा लेने आए हुए राष्ट्राध्यक्षों और विभिन्न संस्थाओं से जुड़े लोगों का स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का स्वागत चीन के राष्ट्रपति और उनकी पत्नी ने किया। [channel 12 news], [breaking news English], [cnn news], [cnn breaking news]

जी-20 में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे सदस्यी शामिल हैं। जी-20 की कोई स्थाई सीट नहीं है और इसके सदस्यों के बीच अध्यक्षता का आदान-प्रदान होता रहता है। हर वर्ष इसका चयन क्षेत्रीय संगठनों की ओर से किया जाता है। जी-20 के सदस्य दुनिया की दोतिहाई जनसंख्यां का प्रतिनिधित्व करते हैं।

वैश्विक अर्थव्यरस्था से जुड़े अहम मुद्दों को एक ही मंच पर लाकर चर्चा करने के मकसद से साल 1999 में इसकी शुरुआत हुई थी।  [news articles], [news paper], [headlines], [cnn]

LEAVE A REPLY