हनोई में प्रधानमंत्री मोदी का रस्मी स्वागत

0
14

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वियतनाम की यात्रा के तहत राजधानी हनोई में हैं। प्रधानमंत्री ने वहां पहुंचकर वियतनाम के वीरों और शहीदों को श्रद्धांजलि दी।
प्रधानमंत्री मोदी ने वियतनाम के प्रधानमंत्री गुएन शुआन फुक से मुलाकात की। शुआन फुक से मुलाकात के बाद वे हनोई में हो चि मिन्ह के स्टिल्ट हाउस गए। वियतनाम के जननायक और पूर्व राष्ट्रपति हो चि मिन्ह के लिए लकड़ी से बना यह परंपरागत घर 1958 में बनाया गया था। पैलेस गार्डन में बने इस घर को हो चि मिन्ह अपने आवास और कार्यालय के तौर पर इस्तेमाल करते थे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वियतनाम में हो चि मिन्ह की समाधि पर भी गए और वहां श्रद्धांजलि अर्पित की। वियतनाम के पूर्व राष्ट्रपति हो चि मिन्ह को वियतनाम के जननायक के रूप में जाना जाता है। 2 सितंबर 1945 को हो चि मिन्ह ने ‘वियतनाम (शांतिसंदेश) जनवादी गणराज्य’ की स्थापना की थी।

इससे पहले शुक्रवार की शाम नाई-बाई अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे पर वियतनाम सरकार के वरिष्‍ठ अधिकारी और वहां भारत के राजदूत पी. हरीश ने प्रधानमंत्री का स्‍वागत किया।

प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए हनोई में रह रहे सैकड़ों भारतीय और स्‍कूली बच्‍चे हाथों में दोनों देशों का झंडा लिए हवाई अड्डे पर मौजूद थे। हवाई अड्डे से प्रधानमंत्री सीधे होटल पहुंचे जहां मौजूद भारतीय समुदाय के लोगों ने उनका स्वागत किया।

अपनी वियतनाम यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री संसाधन संपन्न देश के शीर्ष नेतृत्व के साथ व्यापक वार्ता करेंगे।

प्रधानमंत्री की वियतनाम यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब दोनों देशों के रणनीतिक संबंध के 10 साल पूरे हो रहे हैं। दौरे के इसी महत्व को रेखांकित करते हुए उन्होंने वियतनाम रवाना होने से पहले अपने बयान में कहा कि उनकी सरकार वियतनाम के साथ द्विपक्षीय संबंधों को उच्च प्राथमिकता देती है और दोनों देशों के बीच साझीदारी से एशिया और बाकी दुनिया को लाभ होगा।

प्रधानमंत्री की वियतनाम यात्रा भारत की एक्ट ईस्ट पॉलिसी का हिस्सा मानी जा रहा है। इस यात्रा के दौरान भारत का फोकस आर्थिक औऱ सामरिक रिश्तों को मजबूत करने पर रहेगा।

भारत का वियतनाम मे निवेश मुख्य रुप से तेल और गैस, कपड़ा, उद्योगों के कल-पुर्जों बनाने, फार्मा, फूड प्रोसेसिंग, आईटी, इंफ्रास्ट्रक्चर विकास और अक्षय ऊर्जा के सेक्टर से जुड़ा हुआ है।

LEAVE A REPLY