‘क्षेत्रीय युद्ध’ की टिप्पणी पर चीन ने रिपोर्टों को ‘अटकलबाजी’ बताया

0
9

चीन: लद्दाख के चुमुर क्षेत्र में तनाव कम होने के आसार हैं। यहां
विश्वस्त सरकारी सूत्रों के अनुसार बताया गया कि चीनी पीएलए और भारतीय सेना दोनो ने
अपने कुछ सैनिकों को पीछे हटा लिया है। लेकिन दोनो तरफ से पूरी तरह सीमा पर ध्यान रखा
जा रहा है।

इस दौरान चीनी सेना ने दोनों सेनाओं के बीच फ्लैग मीटिंग करने के
लिए एक प्रस्ताव उनके सामने रखा है। जिस पर भारतीय सेना ने इस पर तत्काल किसी प्रकार
का कोई जवाब नहीं दिया है। सूत्रों में बताया कि इस प्रस्ताव पर पूरी तरह से विचार-विमर्श
किया जा रहा है।
जबकि गत 10 दिनों के भीतर दो फ्लैग
मीटिंगों को अंजाम दिया जा चुका है। जिसका किसी प्रकार का कोई निर्णय निकला है। उधर, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि
मामले के निस्तारण के लिए भिन्न राजनयिक स्तर पर वार्ता चल रही है।
सैन्य अधिकारियों के सूत्रों के अनुसार बताया कि चीनी सेना की गतिविधियों
पर ध्यान दिया जा रहा है। जबकि भारतीय सेना ने अपने नजदीकी सैन्य टुकडिय़ों को भी हर
समय तैनात रहने के निर्देश दिये है। चुमार की स्थिति के कारण सेना प्रमुख दलबीर सिंह
सुहाग ने चार दिनों कि भूटान यात्रा को कैंसिल कर दिया है।
सीमा पर जारी गतिरोध के बीच भारत ने बताया है कि चीन के साथ ‘विभिन्न स्तरों और विभिन्न स्थानों पर’ संवाद प्रक्रिया जारी है और साथ ही साफ किया
कि देश की सीमाएं सेना के हाथों में हैं। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा अपने
देश की जन मुक्ति सेना (पीएलए) से ‘क्षेत्रीय युद्ध’ पर पराजय पाने के लिए हर संभवत: तैयार रहने
की टिप्पणी किए जाने के दूसरे दिन भारत की तरफ से यह प्रतिक्रिया सामने आई है। भारतीय
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मिलने के बाद इन घटनाओं
का तुरंत समझौता करने के लिए कूटनीति अपना काम करने में सक्षम हो रही है। प्रधानमंत्री
की उपस्थिति वाले किसी भी प्रोग्राम में देश का गलत नक्शा दिखाने की कोई घटना नहीं
हुई।

इधर,
कांग्रेस महासचिव दिग्विजय
सिंह ने चीन के राष्ट्रपति की भारत यात्रा की सफलता को लेकर उन्होने प्रधानमंत्री नरेन्द्र
मोदी पर निशाना साधा। सिंह ने उन खबरों का जिक्र किया है। जिनके आधार पर चीन के विदेश
मंत्री ने शुक्रवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उस बयान को लेकर संतोष
व्यक्त किया है

LEAVE A REPLY