भारत में रूसी सांस्कृतिक महोत्सव का शुभारंभ

0
5

शनिवार को भारत में साल भर चलने वाला रूसी सांस्कृतिक महोत्सव शुरू हो गया। रूस और भारत के बीच कूटनीतिक सम्बन्धों की स्थापना की 70 वीं जयन्ती को समर्पित इस महोत्सव की शुरूआत रूसी बैले कलाकारों के नृत्य से हुई।

रूस और भारत के बीच राजनयिक सम्बन्धों की स्थापना की 70 वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में भारत में रूसी सांस्कृतिक महोत्सव शुरू हो गया। रूसी सांस्कृतिक महोत्सव की शुरूआत शनिवार को नई दिल्ली स्थित रूसी सांस्कृतिक केन्द्र में रूसी शास्त्रीय बैले नृत्य के प्रदर्शन से हुई।

मस्क्वा (मास्को) के राजकीय अकादमिक नृत्य थियेटर ’ग्झेल’ के कलाकारों और रूस के प्रसिद्ध ’बल्शोय थियेटर’ के कलाकारों ने तथा मस्क्वा के स्तनिस्लाव्स्की और नेमिरोविच-दानचिन्का संगीत थियेटर के कलाकारों ने इस अवसर पर ’शिल्कून्चिक’, ’ज़ोलुश्का’, ’झिज़ेल’ और ’दोन किख़ोत’ जैसे विश्व-प्रसिद्ध बैले-नृत्यों के अंश प्रस्तुत किए।

हालाँकि औपचारिक तौर पर रूस और भारत के बीच राजनयिक सम्बन्धों की स्थापना की 70 वीं जयन्ती चार महीने बाद पड़ेगी, लेकिन शनिवार को हुए इस सांस्कृतिक समारोह से भारत के विभिन्न नगरों में रूसी सांस्कृतिक सम्बन्ध परिषद ’रोस-सत्रूदनि-चेस्त्वा’ द्वारा आयोजित इस जयन्ती को समर्पित रूसी सांस्कृतिक महोत्सव शुरू हो गया। जयन्ती को समर्पित मुख्य समारोह 13 अप्रैल को आयोजित किया जाएगा।

नई दिल्ली स्थित रूसी सांस्कृतिक केन्द्र में हुए इस समारोह के बाद बोलते हुए भारत में रूस के राजदूत अलिक्सान्दर कदाकिन कहा — रूसी कलाकारों द्वारा बैले नृत्य की इस ख़ूबसूरत प्रस्तुति से हम सोवियत संघ और भारत के बीच यानी अपने देश रूस और भारत के बीच कूटनीतिक सम्बन्धों की स्थापना की 70 वीं जयन्ती को समर्पित रूसी सांस्कृतिक महोत्सव की शुरूआत कर रहे हैं, जो भारत में पूरे एक साल तक मनाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि गोआ में हुई मुलाक़ात के समय भारत के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लदीमिर पूतिन ने इस जयन्ती के आयोजन से जुड़े समारोहों का एक पूरा रोड-मैप तैयार किया था। उस रोड-मैप के अनुसार, रूस में पूरे साल भारत का सांस्कृतिक महोत्सव और भारत में पूरे साल रूस का सांस्कृतिक महोत्सव मनाए जाएँगे। उन्होंने कहा — इन महोत्सवों के दौरान विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाएँगे। आज हमने भारत में रूस के सांस्कृतिक महोत्सव की औपचारिक शुरूआत कर दी है।

LEAVE A REPLY