‘जब PM मोदी ने रात 10 बजे एक IAS अधिकारी को फोन किया’

0
6

मारे देश में ज़्यादातर लोगों को लगता है कि सरकार किसी की भी हो, देश में सुधार नहीं आ सकता। लोगों की सोच यह भी होती है कि सभी नेता और सरकारी अधिकारी भ्रष्ट ही होते है। उन्हें जनता से कोई सरोकार नहीं होता, वे बस अपनी जेब भरने के लिए ही काम करते हैं। लेकिन पिछले दो साल में जब से मोदी सरकार ने चार्ज लिया है तब से स्थिति काफी बदल गई है। यह बात तो सभी जानते हैं कि पीएम मोदी बिना थके, बिना छुट्टी लिए देश के लिए काम करने पर विश्वास रखते हैं और वह अपने स्टाफ से भी यही उम्मीद करते हैं।

Quora फोरम पर पुष्पक चक्रवर्ती ने पीएम नरेंद्र मोदी के इसी जज़्बे को साझा किया है। पुष्कर Zoojoo.be में प्रोजेक्ट मेनेजर हैं और उन्होंने अपने पिता के IAS दोस्त को पीएम के साथ काम कर जो सुखद अनुभव आया है, उसे साझा किया है। पुष्कर ने लिखा, ‘मेरे पिताजी के दोस्त जो IAS अधिकारी है और उत्तर त्रिपुरा में पोस्टेड हैं उन्हें 21 जुलाई की रात 10 बजे एक कॉल आया। पीएम कार्यालय से किसी ने उन्हें कॉल किया और कहा की पीएम मोदी उनसे बात करना चाहते हैं।’

यह सुनकर वह अधिकारी सन्न हो गए। कुछ देर बाद पीएम लाइन पर आए और उन्होंने इतनी रात को कॉल करने के लिए पहले माफी मांगी और कहा की नितिन गडकरी के साथ मेरी बैठक अभी ख़त्म हुई और उन्हें इस अधिकारी की मदद चाहिए। पीएम चाहते थे की अधिकारी नेशनल हाईवे नंबर 208-A जो त्रिपुरा को पूरे देश से कनेक्ट करता है उसे रिपेयर करने में सहयोग दें।

अगले दिन जब वह अधिकारी ऑफिस पहुंचे तो उनसे त्रिपुरा सरकार और असम सरकार दोनों ने संपर्क किया और हाईवे बनाने के लिए निधि भी मंज़ूर कर दी गई। उस IAS अधिकारी ने भी तुरंत अपने स्टाफ को लिया और काम पर लग गए। जब वह साईट पर पहुंचे तो उन्होंने देखा की असम सरकार के 6 जेसीबी वहां पहले से उनका इंतज़ार कर रहे थे। अगले 4 दिन तक उन्होंने अपने टीम के साथ मेहनत की और हाईवे को खोल दिया। कुछ दिनों बाद उस अधिकारी को परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का फोन आया। गडकरी ने उनके काम को सराहा और उन्हें पीएमओ में आने का न्योता दिया।

LEAVE A REPLY