इलाहाबाद : इविवि के कुलपति प्रो. रतन लाल हांगलूमामले में दर्ज होगा बयान, आरोपित छात्र नेताओं पर लगेगी चार्जशीट

इलाहाबाद : इविवि के कुलपति प्रो. रतन लाल हांगलू व दिल्ली की महिला के बीच हुई बातचीत का ऑडियो व वाट्सएप चैट का स्क्रीन शॉट वायरल करने के मामले में पुलिस अब बयान दर्ज करेगी। एसएसपी नितिन तिवारी का कहना है कि मामले में छात्रनेता अविनाश दुबे के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है। ऐसे में अब आरोपित छात्रनेता का बयान दर्ज होगा। साथ ही आडियो और स्क्रीन शार्ट की जांच कराई जाएगी। अब तक उस महिला ने पुलिस से संपर्क नहीं किया है। जांच से मामला साफ हो जाएगा तब आगे की कार्रवाई की जाएगी।

कुलपति चैट प्रकरण के बाद इविवि में जमकर बवाल हुआ था। ऐसे में कर्नलगंज थाने में इससे जुड़े चार मुकदमे दर्ज हुए हैं। एक मुकदमा इविवि के रजिस्ट्रार प्रोफेसर एनके शुक्ला ने दर्ज कराया है। इसमें छात्र अविनाश दुबे को नामजद किया गया है। एक मुकदमा पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह की तहरीर पर शिवम सिंह, माइकल, आकाश सिंह को नामजद करते हुए तीन सौ से चार सौ अज्ञात हमलावरों के खिलाफ दर्ज हुआ है। तीसरा केस दारोगा प्रभात कुमार की तहरीर पर नेहा यादव, अंकित यादव, शिवम सिंह, राहुल यादव, राकेश कुमार को नामजद करते हुए सौ से 150 अज्ञात छात्र-छात्राओं के खिलाफ दर्ज किया गया है। चौथा मुकदमा गाड़ी तोड़ने में छात्रों के खिलाफ दर्ज हुआ है। यह सभी मुकदमे सात साल से कम सजा वाले हैं, ऐसे में इसमें किसी की गिरफ्तारी नहीं की जा रही। एसएसपी का कहना है कि चैटिंग के मामले दर्ज केस में अविनाश दुबे सहित अन्य लोगों के बयान दर्ज होंगे। बवाल आदि के मामले में नामजद आरोपितों के खिलाफ पुलिस चार्जशीट लगाएगी। जो अज्ञात हैं उनमें कुछ की पहचान पुलिस ने कर ली है। उनके खिलाफ भी अदालत में चार्जशीट दाखिल की जाएगी। एसएसपी के मुताबिक, चूंकि महिला ने किसी प्रकार की शिकायत नहीं दर्ज कराई इसलिए कुलपति पर मामला नहीं बनता। फिलहाल चारों मुकदमों की जांच कराई जा रही है