• इलाहाबाद : कर्नलगंज के सलोरी इलाके में माइक मीटिंग के दौरान छात्र नेताओं में जमकर बवाल हुआ। भाषणबाजी के दौरान छात्र नेता भिड़ गए। मारपीट के बाद पथराव से भगदड़ मच गई। पथराव में दो छात्र जख्मी हो गए। खबर पाकर कई थानों की फोर्स पहुंच गई। पुलिस ने छात्रों को खदेड़ टेंट आदि उखाड़ फेंका। एसएसपी नितिन तिवारी ने देर रात अफसरों संग मीटिंग कर बवाल करने वाले छात्र नेताओं की सूची तैयार कराई।सलोरी इलाके में शनिवार की रात छात्र नेताओं ने माइक मीटिंग रखी थी। एक साइड सचिन पंडित का मंच लगा था तो दूसरे साइड सुनील मौर्या का मंच सजा था। भाषणबाजी चल रही थी। सुनील मौर्या के हार्न की आवाज ज्यादा तेज थी। ऐसे में सचिन पक्ष के लोगों ने एतराज जताया। इसे लेकर कहासुनी होने लगी। अचानक जमकर मारपीट हो गई। दोनों पक्षों के छात्र एक दूसरे को दौड़ाकर पीटने लगे। पथराव शुरू हो गया जिसमें समाजिक न्याय मोर्चा के सनी गौतम समेत दो छात्र जख्मी हो गए। खबर पाकर सीओ आलोक मिश्र, इंस्पेक्टर सत्येंद्र सिंह पहुंच गए।पुलिस ने जख्मी छात्रों को मेडिकल के लिए भेज दिया। इसके बाद छात्रों को खदेड़ टेंट निकलवा दिया। इंस्पेक्टर सत्येंद्र सिंह के मुताबिक, प्रत्याशी सुनील मौर्या की तहरीर पर सचिन शर्मा समेत कई के खिलाफ केस दर्ज हुआ है। सुनील मौर्या का कहना है कि हमला उस पक्ष ने किया। पहले बुलाकर मारपीट की फिर पथराव किया। सचिन शर्मा का कहना है कि मारपीट उस पक्ष ने की। जब हम लोग वापस लौटने लगे तो पीछे से पथराव किया गया। जाति सूचक बातें की गईं।
  • छात्र नेताओं की हिस्ट्रीशीट खुलेगी :
  • इनामी पूर्व छात्रनेता अभिषेक सिंह सोनू, सुमित शुक्ला, अभिषेक माइकल और आकाश सिंह की हिस्ट्रीशीट खुलेगी। शनिवार की रात एसएसपी नितिन तिवारी ने पुलिस अधिकारियों के साथ मीटिंग कर आरोपित छात्र नेताओं की हिस्ट्रीशीट खोलने, गुंडा एक्ट के तहत कार्रवाई करने का निर्देश दिया। साथ ही एसएसपी ने अपराधिक किस्म के अन्य छात्राओं की सूची तैयार करने को कहा है। सीओ आलोक मिश्र को निर्देश दिया है कि जिन भी छात्र नेताओं और छात्रों पर गंभीर मुकदमे दर्ज हैं, उनकी सूची तैयार कर दी जाए ताकि टॉप टेन अपराधियों की सूची में शाामिल किया जा सके। एसएसपी ने शनिवार की रात आरोपित छात्र नेताओं और उपद्रवी छात्रों की तलाश में तीन टीमों से छापामारी शुरू कर दी।
  • एसटीएफ भी लगी तलाश में :
  • आरोपित छात्र नेताओं की गिरफ्तारी के लिए शनिवार को पुलिस ने कई संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी की। इन सभी पर शुक्रवार रात 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। इसके बाद से पुलिस तलाश में जुट गई है। स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) भी अपराधिक प्रवृत्ति के इन आरोपितों के मोबाइल की लोकेशन ट्रेस कर रही है। सीओ कर्नलगंज आलोक मिश्रा, इंस्पेक्टर सत्येंद्र सिंह ने कई थाने की फोर्स के साथ जार्जटाउन, शिवकुटी और कर्नलगंज के कई संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी की। इस दौरान पुलिस को पता चला कि पूर्व छात्रनेता इस वक्त विश्वविद्यालय के हॉस्टल में तो नहीं पनाह ले रहे हैं, लेकिन कुछ मकान में कमरों और डेलीगेसियों में रात को रुकते हैं। ऐसे कई ठिकानों की पहचान की गई है। इन अपराधी प्रवृत्ति के पूर्व छात्रनेताओं के जेल के बाहर रहने से छात्रसंघ चुनाव में बड़े बवाल की आशंका है। नामांकन के दिन हुई बमबाजी व फायङ्क्षरग में भी इनके हाथ होने की बात कही जा रही है। सीओ एसटीएफ नवेंदु सिंह का कहना है कि आरोपितों के खिलाफ कई आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं और कुछ जेल से छूटकर भी बाहर आए हैं।