मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाराज , अब कुंभ का बदलेगा लेआउट

इलाहाबाद,   मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार रात और रविवार सुबह कुंभ के लिए अलग-अलग स्थानों पर चल रहे कार्यों का निरीक्षण कर खामियों को रेखांकित किया और बेहतरी के लिए आवश्यक निर्देश दिए। तैयारियों और कार्यों को देखने के बाद रविवार को योगी ने कुछ मामलों को लेकर नाराजगी जताई। दरअसल प्रोजेक्ट टेंट सिटी केंद्र व प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता वाला है। इसे संगम से लगभग साढ़े चार किलोमीटर दूर बसाया जा रहा है। यह बात उन्हें रास नहीं आई। उन्होंने उच्चाधिकारियों को फौरन टेंट सिटी का स्थान बदलने के निर्देश दिए। साथ ही संस्कृति कुंभ का स्थान बदलने को कहा। ऐसे में प्रयागराज मेला प्राधिकरण को पूरे कुंभ का लेआउट बदलना पड़ेगा। नए लेआउट की मंजूरी स्वयं मुख्यमंत्री को देना है।टेंट सिटी में दुनिया भर के 192 देशों से आमंत्रित किए जा रहे विदेशी मेहमानों और प्रवासी भारतीयों को ठहराया जाएगा। लगभग सौ हेक्टेयर में बसाए जाने वाले इस टेंट सिटी में 12 ब्लॉक बसाए जाएंगे, जिसमें इंटरनेशनल सुविधाएं दी जाएंगी। टेंट नुमा ही विला बनेंगे और उनमें पांच सितारा होटलों जैसी सुविधाएं दी जाएंगी। इसमें लगभग छह हजार स्पेशल स्विस कॉटेज बनेंगे। विदेशी मेहमानों को मिनी क्रूज, स्टीमर और हेलीकॉप्टर से संगम भ्रमण की सुविधा दी जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशन में यह टेंट सिटी बसाई जा रही है। मुख्यमंत्री रविवार को सुबह कुंभ के कार्यों की प्रगति का स्थलीय निरीक्षण करने निकले। टेंट सिटी की संगम से दूरी ज्यादा देख अपर मुख्य सचिव पर्यटन व सूचना अवनीश अवस्थी से कहा कि इस स्थान को तत्काल बदल कर संगम के पास बसाया जाए। टेंट सिटी अभी डीपीएस के पास सेक्टर 20 में और संस्कृति कुंभ को सेक्टर 19 में बसाया जा रहा था। अपर मुख्य सचिव पर्यटन ने सीएम के सामने ही मंडलायुक्त डॉ.आशीष कुमार गोयल और कुंभ मेलाधिकारी विजय किरन आनंद को दोनों सेक्टरों को संगम के पास बसाने को कहा। साथ ही कुंभ का नया लेआउट भी प्लान करने के निर्देश दिए। कुंभ मेला में इस बार कुल 21 सेक्टर बसाए जा रहे हैं।कुंभ के दौरान 24 और 25 जनवरी 2019 को प्रवासी भारतीय संगम की रेती पर पहुंचेंगे। इसके पहले 22 और 23 जनवरी को वाराणसी में प्रवासी भारतीय सम्मेलन होगा, जिसका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उद्घाटन करेंगे व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समापन करेंगे। इनको विशेष ट्रेन से प्रयाग लाया जाएगा, जिन्हें टेंट सिटी में ठहराया जाएगा। इन अप्रवासी भारतीयों को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की ओर से आमंत्रण पत्र भेज दिया गया है। इस बाबत पिछले दिनों विदेश मंत्री स्वराज व योगी आदित्यनाथ की दिल्ली में बैठक भी हो चुकी है।मुख्यमंत्री ने निरीक्षण के दूसरे दिन रविवार को अफसरों से दो टूक कहा कि तय समय पर काम पूरे होने चाहिए। इसके लिए रात-दिन काम कराया जाए। उन्होंने भारद्वाज पार्क, झूंसी में कई चौराहों व सड़कों के कार्य का भी निरीक्षण किया। नैनी के अरैल क्षेत्र में हो रहे विकास कार्यों का भी स्थलीय निरीक्षण किया।[ ब्यूरो रिपोर्ट इलाहाबाद]