वन्य जीव की तस्करी में पूर्व सांसद का बेटा गिरफ्तार

प्रयागराज : दुर्लभ वन जीवों की तस्करी के मामले में प्रयागराज पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने दुर्लभ प्रजाति के जीव पैंगोलिन को बरामद कर पांच तस्करों को गिरफ्तार किया है। सरगना पूर्व सांसद राम निहोर राकेश का बेटा रितेश है। पैंगालिन को तस्करी के जरिए विदेश भेजने की तैयारी थी। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत लाखों में आंकी जा रही है। पैंगोलिन को पहाड़ी इलाके से पकड़ा गया था। एसएसपी नितिन तिवारी ने तस्करों की गिरफ्तारी के बाद उन्हें मंगलवार को पुलिस लाइन में पत्रकारों के सामने पेश किया। दुर्लभ जीव पैंगोलिन को भी दिखाया। बताया कि विलुप्त हो रहे वन जीवों की तस्करी करने वाला एक गिरोह प्रयागराज में सक्रिय था। पुलिस काफी दिनों से निगरानी कर रही थी। सीओ सुर्कीति माधव के नेतृत्व में पुलिस टीम ने दोपहर में नए यमुना पुल, गऊघाट पर घेराबंदी कर सफारी सवार तस्करों को दबोच लिया। सफारी में पैंगोलिन को छिपाकर रखा गया था।एसएसपी नितिन तिवारी के मुताबिक, तस्करी गिरोह का सरगना रितेश कुमार निवासी कूपर रोड सिविल लाइंस पूर्व सांसद व कांग्रेस नेता राम निहोर राकेश का बेटा है। उसके चार साथी नुसरत हुसैन पुत्र मुज्जफर हुसैन निवासी दांदूपुर, घूरपुर, हरिमोहन गुप्ता पुत्र एसएन गुप्ता निवासी पुराना कटरा, कर्नलगंज, अखिलेश शुक्ला पुत्र सूर्यमणि शुक्ला निवासी शुकुलपुर मेजा और जय प्रकाश शर्मा पुत्र गणेश लाल शर्मा निवासी रामनगर नैनी को गिरफ्तार किया गया है। एसएसपी के मुताबिक, पकड़े गए तस्करों ने पैंगोलिन को पहाड़ी क्षेत्र से लाने की बात कबूल की गई है। उनका कहना है कि दिल्ली में इसका सौदा तय हो रहा था। दिल्ली का तस्कर इसे विदेश भेजने की फिराक में था। पुलिस का कहना है कि जरूरत के मुताबिक, इसकी कीमत तय होती है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पैंगोलिन को बीस लाख से लेकर एक करोड़ तक बेचा जा सकता है। दक्षिण एशिया और अफ्रीका में अधिक डिमांड है। सीओ बैरहना सुकीर्ति माधव के मुताबिक, दक्षिण एशिया और अफ्रीका में इसकी डिमांड ज्यादा है। इसका इस्तेमाल शक्ति वर्धक दवाइयां, कई बीमारी की दवाएं, ड्रग्स, बुलेट प्रूफ जैकेट आदि में होता है। एसएसपी ने बताया कि पैंगोलिन को वन विभाग की टीम के सुपुर्द कर दिया गया। वन विभाग वाले जांच कर इसे जंगल में छोडऩे का इंतजाम करेंगे। गिरफ्तारी करने वाली टीम में इंस्पेक्टर मुट्ठीगंज तारकेश्वर, हेड कांस्टेबल रियासत अल, नरेंद्र सिंह, राम विलास यादव आदि को इनाम देने की घोषणा की गई है।[ब्यूरो रिपोर्ट प्रयागराज]