हिस्ट्रीशीटर की हत्या करने वाले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इलाहाबाद :खुल्दाबाद थाना क्षेत्र के भुसौली टोला में हुई हिस्ट्रीशीटर मनीष उर्फ मोंटू की हत्या 55 हजार रुपये उधार लेकर न देने की वजह से हुई थी। हत्या करने वाले दो शातिर बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया तो इसका खुलासा हुआ। पुलिस ने उनके पास से असलहे व बम बरामद किया। बदमाशों के पास से एक किलो अस्सी ग्राम चांदी के जेवरात भी बरामद हुए हैं। बदमाशों ने जेवरात मऊआइमा के आभूषण व्यवसायी से लूटे थे। गिरफ्त में आए बदमाशों ने लूट की कई और वारदातें कबूल की हैं।

खुल्दाबाद थाना क्षेत्र के भुसौली टोला में हुई मनीष उर्फ मोंटू की हत्या का राज पुलिस ने खोल दिया है। एसएसपी नितिन तिवारी के मुताबिक, जांच में कहानी कुछ और निकली। नामजदगी गलत हुई थी। मोंटू की हत्या 55 हजार रुपये के विवाद में की गई। हत्या करने वाले शातिर अपराधी बाबा पासी उर्फ सुशील पुत्र रामबाबू निवासी राजरूपपुर, धूमनगंज और लोकई उर्फ आलोक पुत्र हरिलाल निवासी बनकट थरवई को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनके पास से हत्या में इस्तेमाल पिस्टल, तमंचा, चार बम और लूटी गई बाइक बरामद हुई है। एसएसपी के मुताबिक, सोरांव में लूट के मामले में बाबा पासी जेल गया था। तब बाबा की मां ने मोंटू को 55 हजार रुपये पैरवी और जमानत के लिए दिया था।मोंटू ने तो पैरवी की और न ही जमानत में रुपये खर्च किए। बाबा जब जेल से छूटकर आया तो उसने मोंटू से अपने रुपये मांगे, इसी बात पर विवाद हो गया था। इसी के बाद मोंटू की हत्या कर दी गई। बदमाशों ने 25 सितंबर को मऊआइमा में वीरेंद्र सोनी से चांदी के जेवरात लूटे थे। गिरोह के दो बदमाश मुन्ना यादव निवासी चक दौलतपुर बहरिया और गोल्डी निवासी राजरूपपुर धूमनगंज फिलहाल फरार हैं। उनकी तलाश में दबिश दी जा रही है। गिरफ्तारी करने वाली टीम में सीओ बैरहना सुकीर्ति माधव, क्राइम ब्रांच के बृजेश सिंह, नागेश सिंह, विजय, विनोद आदि हैं। घर के बाहर हुई थी मोंटू की हत्या। एलएलबी के छात्र और खुल्दाबाद थाने के हिस्ट्रीशीटर मनीष की हत्या उसके घर के बाहर शुक्रवार रात की गई थी। कातिलों ने उस पर चार गोलियां बरसाईं थी। मोंटू की मां शीला ने सीमा व दो अन्य के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया था। [ ब्यूरो रिपोर्ट इलाहाबाद]