नीमच: सिर्फ 30 सेकेंड में बैंक से ₹10 लाख चुराकर फरार हुआ 10-वर्षीय बच्चा

नीमच। ज़िले में 11 बजे दिन में एक 10-वर्षीय बच्चा 30 सेकेंड में को-ऑपरेटिव बैंक से ₹10 लाख चुराकर फरार हो गया है। इस मामले का खुलासा सीसीटीवी फुटेज से हुआ है। नीमच के एसपी मनोज राय ने कहा कि बच्चे की लंबाई कम थी इसलिए कैश काउंटर के सामने खड़े लोग उसे पैसे चुराते नहीं देख पाए।

यह चोरी बैंक के सबसे व्यस्त समय में हुई। बताया जा रहा है कि 10 साल के बच्चे ने मात्रा 30 सेकेंड में इस चोरी की वारदात को अंजाम दिया है। इसकी भनक बैंक स्टॉफ और बैंक में मौजूद अन्य लोगों को भी नहीं लगी। इस मामले का खुलासा सीसीटीवी फुटेज से हुआ है।

सीसीटीवी फुटेज में एक बच्चा सुबह 11 बजे सहकारी बैंक में आता है। वह एक कैशियर के रुम में एंट्री करता है और काउंटर के सामने खड़े ग्राहकों को पता भी नहीं चलता कि उसकी नाक के नीचे चोरी हो रही है। बच्चे के लिए काउंटर डेस्क छुपने के लिए काफी था। इसके बाद वह तेजी से नोटों की गड्डी को एक थैले में गिरा देता है और बाहर निकल आता है। वह 30 सेकंड से भी कम समय में अंदर से बाहर आ जाता है।

बच्चा जैसे ही चोरी करके दौड़ने लगाता है तो बैंक का अलार्म बज उठता है और बैंक का गार्ड उसके पीछे दौड़ता है। पुलिस को सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि बच्चे को 20 साल का कोई युवक निर्देश दे रहा था। यह युवक 30 मिनट तक बैंक के अंदर ही मौजूद था। जैसे ही उसने देखा कि एक कैशियर अपनी सीट से उठकर दूसरे कमरे में चला गया तो उसने नाबालिग को इशारा किया, जो बाहर खड़ा था। इसके बाद उस बच्चे ने काउंटर पर रखे नोटों के बंडल चुरा लिए और फरार हो गया।

नीमच के एसपी मनोज राय ने कहा कि नाबालिग आरोपी बहुत छोटा था इसलिए कैश काउंटर के सामने खड़े लोग उसे पैसे चुराते हुए नहीं देख सकते थे। फोरेंसिक विशेषज्ञों ने क्राइम स्पॉट की जांच की है। जावद पुलिस थाना प्रभारी ओपी मिश्रा ने कहा कि बैंक के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि आदमी और लड़का अलग-अलग दिशाओं में भाग रहे थे। मिश्रा ने कहा कि कई संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। इलाके में सड़क किनारे स्टॉल लगाने वाले कुछ लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। निजी सुरक्षा गार्ड से भी पूछताछ की जा रही है। पुलिस का मानना ​​है कि एक गिरोह ने कुछ दिनों के लिए बैंक की रेकी की और क्राइम करने के लिए नाबालिग को भेजा।