प्रयागराज में तीर्थराज महाकुंभ का आगाज

प्रयागराज:प्रयागराज साधु-संतों का काफिला शाही अंदाज में मंगलवार को हाथी-घोड़े, बग्घियों, सुसज्जित रथों पर सवार होकर निकला। बैंड-बाजे, ढोल-नगाड़े पर झूमते-नाचते संतों का कारवां सड़कों पर उतरा मंगलवार को प्रयागराज की पावन धरती पर चहुंओर स्वागत-अभिवादन में हजारों हाथ खड़े हो गए। जूना अखाड़े की पेशवाई का नजारा ऐसा ही था। हर तरफ जयघोष के बीच लोग फूलमाला से लदे अखाड़ों के महामंडलेश्वरों, पीठाधीश्वरों, महंतों की झलक पाने के लिए उमड़ पड़े।रथों का रेला चलने से संगम क्षेत्र से लेकर शहर की सड़कों पर किसी तरह लोग पैदल चल पा रहे थे। शानो शौकत के साथ पेशवाई निकाले जाने के साथ ही तीर्थराज प्रयाग में 2019 के दिव्य और भव्य कुंभ की औपचारिक शुरुआत हो गई। पहला शाही स्नान मकर संक्रांति पर 14 जनवरी को होगा।मौजगिरि आश्रम से दिन के 11 बजे पेशवाई का जुलूस निकला। रंमता पंच, देवताओं के अलावा ध्वजा-पताका लेकर संतों का हुजूम निकला। जूना अखाड़े के पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि के अलावा स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती, अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि, महामंत्री महंत हरि गिरि, महंत प्रेम गिरि, महंत विद्यानंद सरस्वती, महंत उमाशंकर भारती, महंत नारायण गिरि के अलावा पीठाधीश्वरों, महामंडलेश्वरों के फूलमालाओं से सजे रथ सड़कों पर निकले। रास्ते भर जगह-जगह कतारबद्ध श्रद्धालु संतों की झलक पाने के लिए सड़क के दोनों ओर खड़े थे।[ ब्यूरो रिपोर्ट प्रयागराज]