एडीओ की रिश्वतखोरी मामले की डीएम ने एडीएम सिटी से 24 घंटे में मांगी जांच की रिपोर्ट

प्रयागराज: प्रयागराज  एक तरफ योगी सरकार 600 से ज्यादा  अधिकारियों के खुले चिट्ठे सामने ला रही है । और कई ऐसे रिश्वतखोर अधिकारियों पर गिरने वाली है गाज प्रदेश सरकार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ सक्रिय अधिकारियों में मचा हड़कंप विकास के कार्य में रोड़ा बनने वाले अधिकारियों पर गिरेगी गाज सरकार की नीतियों से काम ना करने वाले अधिकारियों की लगेगी क्लास। बहादुरपुर विकासखंड में रिश्वतखोरी मामले की जांच जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी ने एडीएम (सिटी) अशोक कुमार कनौजिया को सौंप दी है। गुरुवार शाम तक एडीएम (सिटी) जांच रिपोर्ट सौंप सकते हैं। इस बीच सीडीओ अरविंद सिंह के निर्देश पर बहादुरपुर ब्लाक के बीडीओ ने रिश्वत लेने वाले सेवानिवृत हो चुके एडीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए लिए सराय इनायत पुलिस को बुधवार को तहरीर दी है। इंस्पेक्टर का कहना है कि जांच के बाद मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस का यह रवैया चर्चा का विषय है।प्रयागराज सिटी से से जुड़े बहादुरपुर विकासखंड में ग्राम पंचायत अधिकारी यमुना प्रसाद यादव को एडीओ का भी चार्ज दिया गया था। इस निर्णय पर भी अंगुली उठी थी, मगर तत्कालीन डीपीआरओ और बीडीओ ने शिकायतें दरकिनार कर दीं। झूंसी से लगे भतकार गांव के प्रधान से रिश्वत लेते समय एडीओ की बातचीत का वीडियो वायरल हुआ तो हड़कंप मच गया। इसमें 10-10 हजार रुपये के नोटों की दो गड्डियां एडीओ के हाथ में दिख रही है।सीडीओ ने बीडीओ से पूछताछ कर मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश दिया जबकि डीएम ने एडीएम सिटी  से 24 घंटे में जांच रिपोर्ट मांग ली।सूत्रों से पता लग रहा है फिर शुरू हुआ वहीं समझौते वाला खेल एक अधिकारी ने फोन करके प्रधान को सुलह करने का दबाव बनाया पर प्रधान ने साफ मना कर दिया।एडीओ  की घूस लेने वाली खबर कई न्यूज़ पेपर और चैनलों पर आई तो प्रशासन हरकत में आ गया।{रिपोर्ट संजय गुप्ता प्रयागराज}