इलाहाबाद बैंक मैनेजर अनिल कुमार दोहरे हत्याकांड की गुत्थी अनसुलझी अपराधी पुलिस की गिरफ्त से दूर

प्रयागराज: प्रयागराज इलाहाबाद बैंक मैनेजर अनिल कुमार दोहरे हत्याकांड की गुत्थी अनसुलझी अपराधी पुलिस की गिरफ्त से दूर अनिल कुमार दोहरे की हत्या के अपराधी की तलाश जारी इलाहाबाद बैंक के शाखा प्रबंधक अनिल कुमार दोहरे की हत्या में पुलिस ने कातिलों का पता लगा लिया है। हालांकि कत्ल की वजह पर अब तक सही जवाब देने से कतरा रही है। केवल इतना ही पुलिस कह रही है कि फरार अपराधियों के पकड़े जाने पर ही सच्चाई का पता चलेगा। हालांकि पुलिस मान रही है कि लोन के विवाद में कत्ल हुआ है। पुलिस टीम फरार दिलबहार की तलाश में छापेमारी करती रही लेकिन वह पकड़ में नहीं आया।कालिंदीपुरम कॉलोनी निवासी इलाहाबाद बैंक के शाखा प्रबंधक अनिल दोहरे की हत्या हुए आज एक हफ्ता हो रहा है। पिछले शुक्रवार की सुबह मऊआइमा में कार के भीतर गोली मारकर उनके कत्ल की घटना में पुलिस ने बुधïवार रात एक अपराधी इश्तियाक को मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया। प्रतापगढ़ में मांधाता इलाके के इश्तियाक ने कुबूला है कि उसने वारदात के लिए रेकी की थी। हत्या की सुपारी लेकर प्रतापगढ़ के ही दिलबहार ने उसे रेकी का काम दिया था। उसने 19 जुलाई की सुबह रेकी की जबकि हत्या की वारदात को अंजाम दिया था शूटरों मुजीब, तफ्सीर और नुरुल ने। इसके बाद दो बाइक पर चारों अपराधी फरार हो गए थे। बुधवार से ही पुलिस दिलबहार को खोज रही है।पुलिस ने बैंक मैनेजर के कत्ल के पीछे लोन पास करने के विवाद को प्रमुख कारण माना है। इस बीच चला है कि बैंक के भवन मालिक अनवर का भाई नवाब अली भी लापता है। सूत्रों का कहना है कि उसका बैंक मैनेजर से लोन के लिए झगड़ा हुआ था। वह भी प्रमुख संदिग्ध में है। [रिपोर्ट गयासुद्दीन संवाददाता सोरांव]