22 वां एपीडा वार्षिक पुरस्कार समारोह

भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय के अंतर्गत कृषि एवं प्रसंस्करित खाद्य उत्पादों के निर्यात और विकास के लिए एपीडा सर्वोच्च संस्थान है। एपीडा के जरिए भारतीय निर्यातकों को न केवल विदेशी वाजार मुहैया होते हैं बल्कि निर्यात के लिए जरूरी तमाम सारी सुविधायें भी उपलब्ध करायी जाती हैं। एपीडा सहयोगी सेवाओं के अतिरिक्त निर्यातकों के लिए उपयुक्त साझेदार की खोज में भी मदद करती है। एपीडा के एक्सपोर्ट बास्केट में अचार, चटनी, सॉस, चावल, शहद, ताजी फल और सब्जियां, पेय पदार्थ, खाद्यान, सुंगधित पदार्थ शामिल हैं।

भारतीय कृषि उत्पादों और प्रसंस्करित खाद्य पदार्थों के निर्यात में बेहतरीन सेवा के लिए निर्यातकों को 2014-15 और 2015-16 के लिए 82 पुरस्कार अलग अलग श्रेणियों में दिए गए । डायमंड श्रेणी में 2, गोल्ड में 33, सिल्वर में 29, ब्रांज में 18 पुरस्कार शामिल थे । दोनों वित्तीय वर्षों में बेहतरीन निर्यात सेवा के लिए एलन संस लिमिटेड को डायमंड ट्रॉफी से सम्मानित किया गया । जिन कंपनियों को दोनों वित्तीय वर्षों के लिए गोल्डन ट्रॉफी से सम्मानित किया गया, उनमें रमेश फ्लावर्स प्राइवेट लिमिटेड, नंद्याला सत्यनारायना (ताजी सब्जियों के लिए), नामधारी सीड्स प्राइवेट लिमिटेड, अलहम्द एग्रो फुड्स प्राइवेट लिमिटेड (भैसों का मीट), एसकेएम एग प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट इंडिया लिमिटेड, गुजरात को-ऑप मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड, केजरीवाल बी केयर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, जैन इरिगेशन सिस्टम्स लिमिटेड, यू.बी. ग्लोबल लिमिटेड, हिन्दुस्तान गम एंड केमिकल्स लिमिटेड और सत्यम बालाजी राइस इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड शामिल थे।

विजेताओं को वाणिज्य सचिव श्रीमति रीता तेवतिया ने सम्मानित किया। उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर मंदी के बावजूद भी कृषि उत्पादों के निर्यातकों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। जिसकी वजह से भारत दुनिया के सातवें बड़े कृषि उत्पाद निर्यातक देशों में शामिल हुआ है।