पीड़िता का छलका दर्द: बोली- 5 लाख दूंगी, सज्जन कुमार के बच्चों को मेरे सामने जलाओ

इस ख़बर को शेयर करें:

1984 के सिख दंगे मामले में बीते दिन कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई गयी. जिसके बाद दंगे का पीड़िता की जुबां पर दर्द छलक ही आया. बुजुर्ग महिला का दर्द क्रोध के रुप में बाहर निकला…जिस पर बुजुर्ग महिला ने कहा कि सज्जन कुमार के बच्चों को मेरे सामने जलाओ उसको 5लाख का इनाम दूंगी.

सज्जन को फांसी पर लटकाओ तभी होगा न्याय

जी हां सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई..जिससे लुधियाना की सीआरपी कॉलोनी में हलचल दिखी।

फैसले से खुश नहीं पीड़ित

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो 1984 दंगों के कई पीड़ित परिवार यहां रहते हैं। 34 साल बाद आए फैसले से दंगा पीड़ित परिवारों के जख्मों पर कुछ मरहम तो लगा लेकिन दंगा पीड़ित इस फैसले से पूरी तरह खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि सज्जन कुमार को फांसी होनी चाहिए। दंगों में शामिल रहे अन्य लोगों को भी सजा मिलनी चाहिए। मध्य प्रदेश के नवनियुक्त सीएम कमलनाथ को सजा भी होनी चाहिए। तब उन्हें इंसाफ मिलेगा। दिल्ली दंगों के बाद से लुधियाना में लगभग पांच हजार दंगा पीड़ित परिवार रहते हैं।

बेटे के गले में टायर डालकर आग लगा दी- गुरदयाल कौर

वहीं 1984 के दंगे की पीड़िता गुरदयाल कौर ने कहा कि दिल्ली की रानी सब्जी मंडी में वह अपने दो बेटों और पति के साथ रहती थी। जब दंगों की खबर फैली तो शाम को पूरा परिवार घर पर था। अचानक शाम 5 बजे भीड़ घर में घुस आई औऱ उनके बेटे हाकम सिंह (20) और अमरजीत सिंह (30) को घर से निकाल लिया। उनकी आंखों के सामने गले में टायर डालकर आग लगा दी। इसी गम में कुछ समय बाद उसके पति की मौत हो गई।

मैं 5 लाख रुपये देने को तैयार हूं-गुरदयाल कौर

गुरदयाल कौर ने कहा कि आज यह नेता बोल रहे हैं कि दंगा पीड़ितों को दो लाख रुपये दे दिए गए हैं, मैं 5 लाख रुपये देने को तैयार हूं। क्या सज्जन कुमार मेरी आंखों के सामने अपने बच्चों को आग के हवाले करवाएंगे।