धूमधाम के साथ मनी स्वतंत्रता की 70वीं वर्षगांठ, उच्च शिक्षा मंत्री ने किया ध्वजारोहण

ग्वालियर | ग्वालियर जिले में स्वतंत्रता दिवस की 70वीं वर्षगाँठ हर्षोल्लास, धूमधाम और गरिमामय ढंग से मनाई गई। मुख्य समारोह स्थानीय एसएएफ मैदान पर आयोजित हुआ। मुख्य समारोह में उच्च शिक्षा एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने ध्वजारोहण कर भव्य परेड की सलामी ली। इस अवसर पर उन्होंने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का प्रदेश की जनता के नाम संदेश का वाचन भी किया। आकर्षक और देशभक्तिपूर्ण सांस्कृतिक कार्यक्रम भी इस दौरान प्रस्तुत किए गए।

प्रात: ठीक 9 बजे शुरू हुए स्वतंत्रता दिवस समारोह में मुख्य अतिथि श्री पवैया ने जिले के स्वतंत्रता संग्राम सैनानियों एवं कारगिल शहीदों की विधवाओं को शॉल श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया। इससे पहले ध्वजारोहण के पश्चात मुख्य अतिथि ने एक खुले वाहन में सवार होकर संयुक्त परेड का निरीक्षण किया। मुख्य अतिथि के साथ कलेक्टर श्री राहुल जैन व पुलिस अधीक्षक डॉ. आशीष कुमार खुले वाहन पर सवार थे। परेड में शामिल जवानों ने तीन बार हर्ष फायर कर राष्ट्रपति के जयकारे लगाए। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री ने सभी को बधाई एवं शुभकामनायें देते हुए रंग बिरंगे गुब्बारे खुले आसमान में छोड़े।

बीएसएफ एवं एस.ए.एफ. के बैण्ड की मधुर धुन के साथ निकली संयुक्त परेड सभी के लिए आकर्षण का केन्द्र रही। परेड के मुख्य कमाण्डर की कमान आरआई श्री देवेन्द्र सिंह यादव व सहायक परेड कमाण्डर की कमान श्रीमती रूमा नाज़ ने संभाली। संयुक्त परेड में बी.एस.एफ. टेकनपुर, द्वितीय वाहिनी एस.ए.एफ., 14वीं वाहिनी एस.ए.एफ., जिला पुलिस बल, नगर सेना, एनसीसी सीनियर बालक व बालिका, एनसीसी जूनियर बालक व बालिका, स्काउट व गाइड एवं नगर रक्षा समिति की टुकडियां शामिल हुई। संयुक्त परेड में शौर्या दल की टोली भी शामिल थी।

आकर्षक परेड की सलामी लेने के पश्चात मुख्य अतिथि श्री पवैया ने सभी परेड कमाण्डरों से परिचय प्राप्त किया और सभी को कुशल नेतृत्व के लिए बधाई दी। परेड के लिए पुरस्कार चयन समिति द्वारा लिये गये निर्णय में सीनियर वर्ग में सीमा सुरक्षा बल टेकनपुर को प्रथम, द्वितीय वाहिनी एसएएफ को दूसरे एवं 14वीं बटालियन एसएएफ को तृतीय स्थान की शील्ड से नवाजा गया। इसी प्रकार जूनियर वर्ग में एनसीसी सीनियर गर्ल को प्रथम, एनसीसी सीनियर बॉयज को द्वितीय एवं स्काउट की टुकड़ी को तृतीय स्थान की शील्ड प्रदान की गई। सहयोगी टोलियों में शौर्या दल को प्रथम स्थान मिला। बीएसएफ और एसएएफ बैण्ड को भी स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। अपने कार्यों को उत्कृष्ट ढंग से अंजाम देने वाले शासकीय सेवकों को भी मुख्य अतिथि द्वारा इस अवसर पर प्रमाण-पत्र व शील्ड देकर सम्मानित किया गया।