पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 15 जिलों की 73 विधानसभा सीटों पर मतदान जारी है

मेरठ: शनिवार को यूपी विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान हो रहा है जिसमें पश्चिमी यूपी के 73 निर्वाचन क्षेत्र की किस्मत का फैसला होगा. इसमें नोएडा, शामली, गाजियाबाद और मेरठ जैसी सीटें शामिल है जो बीजेपी, कांग्रेस-सपा और बहुजन समाज पार्टी के लिए अहम हैं. जहां मायावती की बहुजन समाज पार्टी पांच साल बाद एक बार फिर सत्ता में लौटना चाहेगी, वहीं बीजेपी को उम्मीद है कि वह 2014 के लोकसभा चुनाव की जीत को दोहरा सके जब उसने यूपी में 80 में से 71 सीटों को जीता था.

यह चुनाव मौजूदा सीएम अखिलेश यादव के लिए अहम है जिन्होंने अपने पिता मुलायम सिंह यादव और चाचा शिवपाल यादव से खींचतान कर पार्टी की कमान अपने हाथ में ली है. इसके साथ ही इस बार के चुनाव के लिए सपा ने कांग्रेस से हाथ भी मिलाया है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रैटिक रिफोर्म्स (ADR) के मुताबिक पहले चरण में खड़े हुए बीजेपी उम्मीदवारों में 40 प्रतिशत के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं, इसके बाद नंबर है बीएसपी का जिसके 39 प्रतिशत और फिर सपा-कांग्रेस का जिसके मिलाकर 28 प्रतिशत उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज है.

जानकारों का कहना है कि यूपी चुनाव के नतीजों से ही 2019 के लोकसभा चुनाव का रोडमैप तैयार होगा. अगर आप भी अपने पोलिंग स्टेशन और निर्वाचन क्षेत्र के हिसाब से वोटर लिस्ट देखना चाहते हैं तो यूपी के मुख्य चुनाव अधिकारी की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं. इस वेबसाइट से आप मोबाइल एप भी डाउनलोड कर सकते हैं.