Skip to content

दतिया : पुलिसवाले से पैसे मांगने की गलती कर बैठा भूखा बच्चा, कर दी गला घोंटकर हत्या

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


दतिया जिले में एक पुलिस हेड कॉन्स्टेबल ने खाने के लिए पैसे मांग रहे छह वर्षीय बच्चे की कथित तौर पर हत्या कर दी है। जिले के पुलिस अधीक्षक (SP) अमन सिंह राठौड़ ने बताया कि यह घटना पिछले गुरुवार की है। आरोपी का नाम रवि शर्मा है, जिनकी ग्वालियर के पुलिस ट्रेनिंग स्कूल में तैनाती थी। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसे सेवा से बर्खास्त करने की तैयारी चल रही है।

बच्चे के बार-बार पैसे मांगने पर आया पुलिसकर्मी को गुस्सा
राठौड़ ने बताया, “खाना खरीदने के लिए बच्चा बार-बार पैसे मांग रहा था, लेकिन पुलिसकर्मी ने पैसे देने से मना कर उसे भगा दिया। थोड़ी देर बाद बच्चा वापस आ गया और पैसे मांगने लगा। इसके बाद पुलिसकर्मी को गुस्सा आ गया और उसने गला दबाकर बच्चे की हत्या कर दी।” आरोपी ने पुलिस को बताया कि वह कुछ समय से डिप्रेशन में है और बच्चे के पैसे मांगने पर उसे गुस्सा आ गया था।

5 मई से लापता था बच्चा
SP राठौड़ ने बताया कि पंचशील नगर कॉलोनी निवासी संजीव सेन ने 5 मई को पुलिस में शिकायत दी थी कि उनका बेटा मयंक 4 मई के बाद से गायब है। वह एक रथयात्रा देखने गया था, लेकिन वापस नहीं लौटा। जांच के दौरान पुलिस को सूचना मिली कि ग्वालियर साइंस कॉलेज के पीछे एक बच्चे का शव मिला है। इसके बाद पुलिस बच्चे के परिजनों को लेकर वहां पहुंची तो उन्होंने अपने बेटे की शिनाख्त कर ली।

CCTV फुटेज से चला आरोपी का पता
पुलिस अधिकारी ने बताया कि शव मिलने के बाद कॉलेज की तरफ आने वाले रास्ते पर लगे CCTV कैमरों की फुटेज को खंगाला गया। इसमें एक काले रंग की वैगनआर रास्ते पर आते और जाते दिखाई दी। एक कैमरे में शव फेंकने की फुटेज भी रिकॉर्ड हो गई थी। पुलिस ने जब कार मालिक का पता लगाने की कोशिश की तो इसका मालिका आरोपी पुलिसकर्मी रवि शर्मा निकला, जिसे बाद में हिरासत में लिया गया।

आरोपी ने कबूली हत्या की बात
हिरासत में लेने के बाद आरोपी पुलिसकर्मी को दतिया लाया गया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि वह पिछले कई महीनों से डिप्रेशन में है। उसने बताया कि ड्यूटी के दौरान बच्चा बार-बार पैसे मांग रहा था। कई बार मना करने के बाद भी जब बच्चा जा नहीं रहा था तो उसने उसका गला घोंटकर मार डाला। बाद में उसने शव को अपनी कार में रखा और ग्वालियर जाकर साइंस कॉलेज के पीछे फेंक दिया।