केरल सोना तस्करी मामले में आरोपी स्वप्ना पर ‘फर्ज़ी’ डिग्री को लेकर केस दर्ज

तिरुवनंतपुरम। सोना तस्करी मामले में आरोपी स्वप्ना सुरेश के खिलाफ पुलिस ने फर्ज़ी डिग्री जमा करके सूचना प्रोद्योगिकी विभाग में नौकरी हासिल करने के आरोप में धोखाधड़ी व जालसाज़ी का केस दर्ज किया है। स्वप्ना के दस्तावेज़ की जांच करने के लिए ज़िम्मेदार 2 कंसल्टिंग एजेंसियां भी मामले में आरोपी हैं। स्वप्ना अभी एनआईए की हिरासत में है।

पुलिस ने कहा कि सुरेश द्वारा सौंपे गए दस्तावेजों की जांच करने की जिम्मेदारी कंसल्टिंग एजेंसी प्राइस वाटर हाउस कूपर्स और विजन टेक्नोलॉजी पर थी। उन्होंने कहा कि मामले में इन दोनों कंपनियों को भी आरोपी बनाया गया है।

उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के अधीन केरल राज्य सूचना प्रौद्योगिकी इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (केएसआईटीआईएल) की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया। सुरेश पर आरोप है कि उन्होंने महाराष्ट्र स्थित डॉ बाबासाहेब आंबेडकर विश्वविद्यालय की बी कॉम की फर्जी डिग्री के इस्तेमाल से सूचना प्रौद्योगिकी विभाग में नौकरी पाई थी।

हाल ही में यहां अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर राजनयिक सामान के जरिये 30 किलोग्राम सोने की तस्करी के मामले में सुरेश का नाम सामने आने पर राज्य सरकार ने उनकी नौकरी समाप्त कर दी थी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने अन्य आरोपियों के साथ सुरेश को भी गिरफ्तार किया है।