सागौन लकड़ी की तस्करी में लिप्त सात आरोपी गिरफ्तार
इस ख़बर को शेयर करें

जबलपुर। थाना प्रभारी चरगवां उप निरीक्षक रीतेश पाण्डेय ने बताया कि  आज दिनाॅक 1-10-2020 को सुंबह लगभग 4 बजे गस्त के दौरान एफआरव्ही में डिूयटी कर रहे आरक्षक सोनू कुमार ने सूचना दी कि ग्राम सूखा तरफ से पिकअप गाड़ी में चोरी की लकड़ी आने की मुखबिर से सूचना मिली है।

सूचना पर ग्राम सूखा तरफ घेराबंदी की गयी सुवह लगभग 4-30 बजे ग्राम कुलौन के आगे ढाल पर पहुचे बिजना तरफ से एक पिकअप गाड़ी आते दिखी जो पिकअप गाड़ी क्रमांक एमएच 32 बी 9974 को रोककर चालक का नाम पता पूछने पर चालक ने अपना नाम प्रवीण जैन उम्र 37 वर्ष निवासी गौरझामर थाना गौरझामर जिला सागर हाल गोलू जैन का मकान पीडब्ल्युडी कालोनी शहपुरा का रहने वाला एवं ड्राईवर के बाजू मे बैठे व्यक्ति ने अपना नाम धर्मेन्द्र वंश्कार 25 वर्ष निवासी छिरारू थाना धूमा जिला सिवनी का रहने वाला बताया।

पिकअप गाड़ी के डाला में पीछे 5 व्यक्ति बैठे मिले जिन्होंने  नाम पता पूछने पर अपने नाम उमेश विश्वकर्मा उम्र 32 वर्ष, यशवंत अहिरवार उम्र 22 वर्ष दोनों निवासी बिल्थरे मौहल्ला गौरझामर थाना गौरझामर जिला सागर हाल  पीडब्ल्यु कालोनी शहपुरा, नर्मदा प्रसाद झारिया उर्फ बबलू झारिया उम्र 36 वर्ष, सतीश कुमार वंशकार उम्र 25 वर्ष दोनों निवासी ग्राम छिरारू थाना धूमा जिला सिवनी एवं दिनेश झारिया उम्र 21 वर्ष निवासी मढ़ देवरी थाना लखनादौन जिला सिवनी के रहने वाले बताये।

डाला में 11 सागौन के लठ्ठा रखे मिले सागौन की लकड़ी के संबंध में लायसेसं रसीद कागजात पूछा जो कोई लायसेंस रसीद नहीं होना बताये पूछताछ करने पर चालक प्रवीण जैन ने पिकअप गाड़ी स्वयं की होना बताया एवं पूछताछ पर बताया कि वह ग्राम छिरारू के नर्मदा प्रसाद झारिया से जंगल की सागौन की लकड़ी चोरी से कटवाकर लाकर बेचता है आज भी नर्मदा झारिया एवं नर्मदा झारिया के साथियों से सागौन की लकड़ी कटवाकर ला रहा था,

11 लठ्ठा सागोैन कीमती लगभग 50 हजार रूपये मय पिकअप वाहन के जप्त करते हुये सभी आरोपियों के विरूद्ध धारा 379, 34 भादवि एवं 26(1) (ए) भारतीय वन अधिनियम एवं धारा 5, 15, 16 म.प्र. वनोपज व्यापार विनिमयन अधिनियम के तहत कार्यवाही की गयी।

सराहनीय भूमिका

आरोपियों को पकड़ने में सहायक उप निरीक्षक लेखराम पटैल, आरक्षक सोनू कुमार, विवेक , अंकित, शैलेन्द्र एवं एफ.आर.व्ही के पायलट राजेन्द्र की सराहनीय भूमिका रही।