मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से लाभ प्राप्त कर प्रसन्नतापूर्वक जीवनयापन कर 4 लोगों को दिया रोजगार

जबलपुरकोई इंसान में यदि कुछ करने का जज्बा हो तो वह है इसके लिए कोई ना कोई रास्ता निकाल ही लेता है और उस दिशा में वह सफल हो ही जाता है। ऐसी ही एक कहानी है भेड़ाघाट निवासी श्री लव कुमार दहिया का जिसकी शिक्षा मात्र आठवीं तक है और ऐसी स्थिति में उसे सरकारी नौकरी मिलने की आशा नहीं थी अत: वह स्वयं का व्यवसाय स्थापित करना चाहता था। उन्होंने स्वयं के प्रयास से मार्बल से मूर्ति बनाने की छोटी सी दुकान स्थापित की और वह अपने व्यवसाय का विस्तार करने का सपना देखने लगा, किंतु व्यवसाय को बढ़ाने के लिये पूंजी की आवश्यकता थी। इस कार्य के लिये उसे कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा था कि पैसों की व्यवस्था कहां से की जाये। एक दिन कर्ज लेने के उद्देश्य से वह स्थानीय भारतीय स्टेट बैंक गया। वहां बैंक अधिकारी से चर्चा करने पर उसे पता चला कि जिला अंत्यावसायी कार्यालय से ऋण लेने में मार्जिन मनी एवं ब्याज अनुदान भी मिल जाएगा।

 

 

उनके बताये अनुसार वह एक दिन अपने सभी आवश्यक कागजात के साथ जिला अंत्यावसायी कार्यालय पहुंचा और अपना ऋण प्रकरण उस कार्यालय में जमा कर दिया, संबंधित कार्यालय से उसके प्रकरण को भारतीय स्टेट बैंक शाखा भेड़ाघाट भेजा गया जहां से 5 लाख रुपये का ऋण स्वीकृत हुआ। जिससे वह अपने व्यवसाय में मूर्तियों को और आकर्षक बनाना शुरू कर दिया और इस काम के लिए उन्होंने 4 युवाओं को भी रोजगार दिया है। भेड़ाघाट आये सैलानियों को वह मूर्तियां विक्रय करता है। बैंक की किस्त नियमित अदा करने तथा मजदूरों की मजदूरी भुगतान करने के पश्चात श्री लव दाहिया को 15 हजार रुपये की शुद्ध आय प्राप्त हो रही है जिससे वह अपने पूरे परिवार के साथ प्रसन्नता से जीवन यापन कर मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से लाभ प्राप्त कर गौरवान्वित महसूस कर रहा है।