मशहूर अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील रिश्वत के हिसाब-किताब वाली ‘बजट शीट’ में दर्ज नामों के शॉर्ट फॉर्म का हुआ खुलासा

इस ख़बर को शेयर करें:

देश भर में वीवीआईपी की सवारी के लिए मशहूर अगुस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में रिश्वतखोरी के मामले का मुख्य आरोपी क्रिश्चियन मिशेल ने रिश्वत के हिसाब-किताब वाली ‘बजट शीट’ में दर्ज नामों के शॉर्ट फॉर्म का खुलासा किया है। इस बात की जानकारी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की पूरक चार्जशीट में दी गई है। इसमें कहा गया है कि ‘AP’ का मतलब कांग्रेस के एक प्रमुख नेता से है।

ईडी को जो डायरी मिली है उसमें एपी और फैम कोडवर्ड की तरह लिखे गए हैं. 52 पन्नों की चार्जशीट और उसके साथ 3 हजार पन्नों की पूरक चार्जशीट में तीन नए नाम भी सामने हैं जिसमें मिशेल का बिजनेस पार्टनर डिवेड सेम और दो कंपनियां हैं. चार्जशीट में आरोप लगाया गया है कि क्रिश्चेन मिशेल ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर दबाव डालने के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का इस्तेमाल किया था.

आरोपपत्र में कहा गया, ‘‘बजट पत्र के अनुसार, देश भर में वीवीआईपी की सवारी के लिए हेलीकॉप्टरों की खरीद के लिए सौदे को अगस्ता वेस्टलैंड के पक्ष में करने के लिए वायु सेना अधिकारियों, नौकरशाहों और राजनेताओं को तीन करोड़ यूरो का भुगतान किया गया था. ईडी ने कहा, ‘‘रिश्वत पाने वालों में कई वर्गों के लोग शामिल रहे जिनमें वायु सेना के अधिकारी, रक्षा मंत्रालय के अफसर समेत नौकरशाह और तत्कालीन सत्तारूढ़ पार्टी के शीर्ष नेता थे. क्रिश्चियन मिशेल जेम्स के अनुसार ‘एपी’ का मतलब अहमद पटेल और ‘फैम’ का मतलब परिवार.”

ईडी ने वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाला मामले में गुरुवार को चौथी चार्जशीट दायर की। उसने कहा कि मिशेल के मुताबिक डायरी में दर्ज ‘fam’ का मतलब फैमिली यानी परिवार है। डायरी में संक्षिप्त रूप में दर्ज शब्दों का संबंध एयर फोर्स अधिकारियों, नौकरशाहों, रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों और तत्कालीन सत्ताधारी दल के शीर्ष नेताओं को दी गई 3 करोड़ यूरो की रिश्वत से संबंधित है।

चार्जशीट में दावा किया गया है कि इन लोगों को रिश्वत के पैसे के भुगतान में ‘जटिल प्रक्रिया’ अपनाई गई और ये पैसे हवाला के जरिए निकाले गए। गौरतलब है कि यह मामला अभी ईडी और सीबीआई जांच के अधीन है जिसके आरोपियों में भारतीय वायु सेना के पूर्व प्रमुख एसपी त्यागी का नाम भी शामिल है। दोनों जांच एजेंसियां अगुस्टा वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर डील से जुड़े राजनीतिक संबंधों एवं धन शोधन (मनी लॉन्ड्रिंग) के पहलुओं की जांच कर रही हैं। इसी सिलसिले में मिशेल को हाल ही में दुबई से प्रत्यर्पित कर भारत लाया गया है। जांच एजेंसियों को मिशेल से महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल हो रही हैं।

चार्जशीट में ईडी ने कहा है, ‘मिशेल के मुताबिक ‘AP’ एक नेता का नाम है जबकि ‘fam’ का मतलब फैमिली यानी परिवार है।’ जांच एजेंसी ने 3,000 पन्नों के अपने पूरक आरोपपत्र में तीन नए नाम शामिल किए हैं। इनमें मिशेल के कथित बिजनस पार्टनर डेविड सिम्स और उनके मालिकाना हक वाली दो कंपनियों – ग्लोबल सर्विसेज एफजेडई, यूएई और ग्लोबल ट्रेड ऐंड कॉमर्स लिमिटेड शामिल हैं। ये तीनों नाम पूर्व के आरोप पत्रों में दर्ज कुल 38 नामों के अतिरिक्त हैं।

बहरहाल, विशेष न्यायाधीश अरविन्द कुमार ने कहा कि ईडी के पूरक आरोप पत्र पर संज्ञान लिया जाए या नहीं और आरोपी को तलब करने के विषय पर वह 6 अप्रैल को फैसला करेंगे। वहीं, सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में दावा किया है कि वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति के लिए 8 फरवरी, 2010 को हस्ताक्षर किए गए सौदे से सरकारी खजाने को करीब 2,666 करोड़ रुपये का अनुमानित नुकसान हुआ।

ईडी ने जून 2016 में मिशेल के खिलाफ दाखिल मूल आरोप पत्र में कहा था कि उसे और अन्य को अगुस्टा वेस्टलैंड से लगभग 225 करोड़ रुपये प्राप्त हुए थे। दुबई से प्रत्यर्पित किये जाने के बाद पिछले वर्ष 22 दिसम्बर को ईडी ने मिशेल को गिरफ्तार किया था। इस मामले में दो बिचौलिये गुइडो हाश्के और कार्लो गेरोसा हैं।

गौरतलब है कि चुनावी प्रचार के दौर में ईडी के ये खुलासे राजनीतिक हथकंडे के रूप में इस्तेमाल हो सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पूर्व के प्रचार अभियान में कह चुके हैं कि तिहाड़ जेल में बंद लोग कांग्रेस के कारनामे उजागर कर सकते हैं। वहीं, कांग्रेस ने इसे जबर्दस्ती फंसाने की साजिश बताते हुए अधिकारियों को धमकी तक दे दी है कि मामले में ज्यादा सक्रियता दिखाने वाले अधिकारियों को भुगतना पड़ सकता है।