रांझी में पकड़ा गया मिलावटखोर : वनस्पति घी, सोयाबीन तेल, एवं घी के एसेंस से तैयार कर रहा था कृत्रिम देशी घी

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:

तैयार किया हुआ कृत्रिम देशी घी लगभग 10 किलो, बर्तन, तराजू, बांट आदि जप्त, धोखाधडी का प्रकरण दर्ज, आरोपी गिरफ्तार

जबलपुर। क्राईम ब्रांच एवं थाना रांझी पुलिस तथा खाद्य सुरक्षा अधिकारी की संयुक्त टीम के द्वारा दबिश देते हुये बडकू का बाड़ा बड़ा पत्थर रांझी निवासी विजय गुप्ता पिता प्रेमलाल गुप्ता को बाजार में आमजन को बेचने हेतु रखे कृत्रिम देशी घी के साथ रंगे हाथ पकड़ने मे महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त हुई है।

क्राइम ब्रांच को विश्वनीय मुखबिर से सूचना मिली कि बडकू का बाड़ा बड़ा पत्थर रांझी निवासी विजय गुप्ता वनस्पति घी तथा सोयाबीन तेल मे देशी घी का एसेन्स मिलाकर कृत्रिम घी बना कर विक्रय करते हुये आमजनों के साथ धोखाधडी कर बेईमानी छल पूर्वक अवैध लाभ अर्जित कर रहा है।

सूचना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया, सूचना पर पहुंचे विनोद कुमार धुर्वे खाद्य सुरक्षा अधिकारी जबलपुर तथा क्राईम ब्रांच एवं थाना रांझी की संयुक्त टीम के द्वारा बडकू का बाडा बडा पत्थर राझी निवासी विजय गुप्ता के घर पर दबिश दी गयी घर पर मौजूद विजय गुप्ता पिता प्रेमलाल गुप्ता उम्र 44 वर्ष को सूचना से अवगत कराते हुये घर की तलाशी ली गयी तो एक कमरे में पाॅलीथी की पन्नियों में पैक किया हुआ लगभग 10 किलो कृत्रिम घी रखा मिला।

कमरे में ही वनस्पति घी एवं सोयाबीन के खाली 1-1 टीन तथा तराजू बांट , 2 स्टील की टंकी, 1 घी मिलाने की डंडी, पाॅलीथीन की पन्नी, रखे हुये मिले, विजय गुप्ता ने पूछताछ पर सोयाबीन तेल , डालडा वनस्पति घी एवं देशी घी का एसेंस मिलाकर घर के गैस चूल्हे में गर्म कर मिक्सर से मिक्स कर कृत्रिम देशी घी बनाना स्वीकार करते हुये पाॅलीथीन के पैकिट में पैक कर फुटकर बेचना स्वीकार किया।

विजय गुप्ता के घर से तैयार किया हुआ कृत्रिम घी, गैस चूल्हा आदि जप्त कर विजय गुप्ता को अभिरक्षा मे लेते हुये थाना रांझी लाया गया। प्रथम दृष्टया विजय गुप्ता के द्वारा सोयाबीन तेल, वनस्पति घी एवं एसेंस का प्रयोग कर देशी घी के नाम पर कृत्रिम घी तैयार करते हुये विक्रय कर आमजनों के साथ धोखाधडी कर बेईमानी एवं छल पूर्वक अवैध लाभ अर्जित करना पाये जाने पर विजय गुप्ता के विरूद्ध थाना रांझी में धारा 420,272 भादवि एवं, खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम 2006 की धारा .51,52,26 (2)(ii) का अपराध पंजीबद्ध किया जा रहा है.।