इलाहाबाद में कानून की पढ़ाई कर रहे एक दलित छात्र की सरेआम हत्या

इलाहाबाद: कानून की पढ़ाई कर रहे एक दलित छात्र की हमले में हुई मौत के बाद सोमवार को दोपहर इलाहाबाद विश्वविद्यालय क्षेत्र में आक्रोशित छात्रों ने एक सिटी बस में आग लगा दी जिससे इलाके में माहौल तनावग्रस्त हो गया. ऐहतियात के तौर पर इलाके में पुलिस बल की तैनाती की गई है. इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष और समाजवादी छात्र सभा के नेता अवनीश कुमार यादव ने बताया, ‘‘हमने जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर दिलीप की हत्या के आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की प्रदेश सरकार से मांग की है.’’ यादव ने कहा, ‘‘आज शाम हम लोग इस घटना के विरोध में मार्च निकालने जा रहे हैं.’’

नौ फरवरी को हुआ था दिलीप पर हमला
उल्लेखनीय है कि नौ फरवरी की शाम दिलीप अपने दो साथियों के साथ कर्नलगंज स्थित एक होटल में खाना खाने गये थे और वहां एक कार से आए कुछ लोगों से उसकी कहासुनी हो गई थी जिसके बाद उन लोगों ने दिलीप को लाठी डंडों से पीटकर बुरी तरह से घायल कर दिया था.

रविवार सुबह इलाज के दौरान 26 वर्षीय दिलीप सरोज की मौत हो गई. पुलिस ने रविवार को कालिका होटल के मालिक अमित उपाध्याय और उस होटल में वेटर का काम करने वाले मुन्ना सिंह चौहान को गिरफ्तार कर लिया, जबकि मुख्य अभियुक्त विजय शंकर सिंह एवं उसके दो साथी फरार हैं. पुलिस ने बताया कि दिलीप सरोज इलाहाबाद डिग्री कॉलेज में एलएलबी द्वितीय वर्ष का विद्यार्थी था और प्रतापगढ़ का रहने वाला था.

मायावती ने कहा कि दिलीप सरोज नामक जिस छात्र की अकारण खुलेआम हत्या कर दी गयी, उसके परिवार की किसी रूप में भरपाई तो नहीं की जा सकती लेकिन उन्हें सांत्वना देने के लिये बसपा उत्तर प्रदेश यूनिट के अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री रामअचल राजभर को स्थानीय पार्टी यूनिट के लोगों के साथ जाकर परिवार से मिलने का निर्देश दिया गया है ताकि उनकी यथासंभव मदद की जा सके. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को दोषियों को सख़्त सज़ा देने के साथ-साथ पीड़ित परिवार की भी जरूर मदद करनी चाहिए.

विधानपरिषद की कार्यवाही दिनभर के लिये स्थगित
इलाहाबाद में दलित छात्र की हत्या और एक अखबार में समाजवादी पार्टी के खिलाफ छपी रिपोर्ट का हवाला देते हुए पार्टी सदस्यों ने आज प्रदेश में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विधानपरिषद में जमकर हंगामा किया और प्रश्नकाल एवं शून्यकाल नहीं चलने दिया। सदन के सभापति रमेश यादव ने पहले प्रश्नकाल की कार्यवाही को आधे…आधे घंटे के लिए दो बार स्थगित किया, बाद में शून्य काल में भी जब हंगामा नहीं टला तो सभापति ने विधानपरिषद की आज की कार्यवाही दिनभर के लिये स्थगित कर दी.

नेता विरोधी दल समाजवादी पार्टी के अहमद हसन ने प्रश्नकाल शुरू होते ही इलाहाबाद में दलित युवक की पीट-पीटकर हत्या किये जाने का मामला उठाते हुए कहा कि प्रदेश में दलितों के साथ ऐसी घटनाएं हो रही हैं और सरकार खामोश है। उन्होंने हाल में राजधानी के काकोरी में डकैती की घटना का हवाला देते हुए कहा कि प्रदेश में बढ़ते अपराध के चलते कानून व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो गयी है.

इस बीच सपा सदस्य सुनील सिंह, आनंद भदौरिया और राजपाल कश्यप ने एक स्थानीय समाचार पत्र में छपी खबर का हवाला देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवाद को आतंकवाद से जोड़ा है। इस मुद्दे पर सपा के सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया और मुख्यमंत्री के इस तथाकथित बयान पर उनसे माफी मांगने की मांग करने लगे.