प्रयागराज: आयुर्वेद स्नातकों को सर्जरी की अनुमति फैसले के खिलाफ में एलोपैथ डॉक्‍टर विरोध पर उतरे

इस ख़बर को शेयर करें:

प्रयागराज. भारत सरकार द्वारा आयुर्वेद स्नातकों को सर्जरी की अनुमति देने के फैसले के खिलाफ संगम नगरी प्रयागराज में एलोपैथ डॉक्‍टर विरोध पर उतर आए हैं. प्रयागराज में एलोपैथिक डॉक्‍टरों के सबसे बड़े संगठन इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने आयुर्वेदिक डाक्‍टरों को सर्जरी के अयोग्‍य बताते हुए केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ आंदोलन का ऐलान कर दिया है.

डॉक्टरों का कहना की आठ दिसंबर को सांकेतिक रुप से विरोध दर्ज कराया जाएगा. इसके बाद 11 दिसंबर को डॉक्टर 12 घंटे ‘असहयोग आंदोलन’ चलाएंगे और मरीजो का इलाज भी नहीं करेंगे.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा आयुर्वेदिक डॉक्टरों को भी सर्जरी की अनुमति दी है. जिसमें आयुर्वेद की डिग्री प्राप्त डॉक्टर जनरल और ऑर्थोपेडिक सर्जरी के साथ ही आंख, नाक और गले की सर्जरी भी कर सकेंगे.

आइएमए प्रयागराज के अध्यक्ष डॉ एम के मदनानी ने सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए कहा है कि अप्रशिक्षित आयुर्वेद डॉक्टरों को सर्जरी की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए.

बगैर प्रशिक्षण व समुचित संसाधन के आयुर्वेद स्नातकों को सर्जरी की अनुमति देना ठीक नहीं है. उन्होंने कहा कि आंदोलन का फैसला हो चुका है. आठ दिसंबर को सभी डॉक्टर एप्रेन पहन स्टेथोस्कोप लटकाकर मार्च करेंगे. इसके बाद भी फैसले पर सरकार द्वारा पुनर्विचार नहीं किया गया तो डॉक्टर 11 दिसंबर को 12 घंटे काम ठप करेंगे.