आज से आनंदम का आगाज

हरदा@ प्रदेश में आज 14 जनवरी से 21 जनवरी तक आनंद का उत्सव मनाया जायेगा। आनंद उत्सव के शुभारंभ अवसर पर आज प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान द्वारा प्रदेश वासियो को संबोधित किया गया। मुख्यमंत्री जी के संबोधन के लाईव सुनने व देखने के लिए हरदा नगर पालिका परिसर में एलईडी स्क्रीन की व्यवस्था की गई । कार्यक्रम में कलेक्टर श्री श्रीकांत बनोठ,पूर्व राजस्व मंत्री श्री कमल पटेल, नगरपालिका अध्यक्ष श्री सुरेंद्र जैन, श्री अमर सिंह मीणा सहित जनप्रतिनिधि शासकीय अधिकारी/कर्मचारी एवं आमजन उपस्थित थे। आज यहां आनंद उत्सव के दौरान रस्साकशी और कुर्सी दौड़ आयोजित की गई।

आनंदम के शुभारंभ अवसर पर उपस्थित आम जन सहित शासकीय सेवकों ने नेकी की दीवार (आनंदम) स्थल पर कपडे रखे। इसे जरूरत मंदों को वितरित भी किया गया। आम जनता सहित शासकीय सेवकों ने नेकी की दीवार पर सामान रखा।

लाईव प्रसारण के दौरान मुख्यमंत्री श्री चैहान ने आम नागरिको से अपील की है कि आनंदक के रूप में अपना पंजीयन करवाये आनंदक के रूप में पंजीयन करवाये के लिए विभाग की वेबसाइट www.anandsansthanmp.in पर अथवा हेल्पलाइन दूरभाष क्रमांक 0755-2553333 पर भी पंजीयन की व्यवस्था की गई है।

हमारी संस्कृति में जरूरतमंद की मदद करना बहुत पुण्य का कार्य माना गया है। समाज में इस भाव को और सशक्त करने तथा सहायता करने के अवसर निर्मित करने के लिए आनंदम की शुरूआत की गई है। इसमें सभी जिलों में जिला प्रशासन द्वारा स्वयंसेवी संस्थाओं और जनप्रतिनिधियों के सहयोग से उपयुक्त स्थानों का चयन किया गया है। इन स्थानो पर ऐसी सुविधा विकसित की गई है, जहां आप अपने ऐसे सामान, जो आवश्यक नहीं है, को छोड सकेगे। जरूरतमंद लोग वहां से अपनी आवश्यकतानुसार सामान निःशुल्क तथा बिना किसी से पूछे ले जा सकेगे। ‘आनंदम‘ को सफल बनाने में अपना योगदान करे। और जरूरतमंदों की सहायता करने के आनंद का अनुभव करे। प्रदेश वासियो को संबांधित करते हुवे मुख्यमंत्री श्री चैहान ने कहां कि शिक्षा के पाठयक्रम में आनंद के पाठ जोडे जायेगे। स्कूलो में आनंद सभा का आयोजन होगा।

कलेक्टर श्री बनोठ ने आनंद उत्सव की रूपरेखा बताते हुए कहा कि जिले में आंनद उत्सव के दौरान निर्धारित क्लस्टर पंचायत के मुख्यालय पर स्थानीय खेल, नृत्य, संगीत का आयोजन किया जाएगा। आनंद विभाग से जुडने के लिए इच्छुक व्यक्तिय जो निःशुल्क आनन्द विभाग को सेवा देने को तैयार है, वे आनन्दक के रूप में पंजीयन कराएं। आनंदक के रूप में स्वयं का पंजीयन बेवसाईट www.anandsansthanmp.in पर करा सकते है। कलेक्टर ने कहा कि आनंदम विभाग की परिकल्पना कहीं न कहीं हमारी संस्कृति से जुड़ी है। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति में वसुधैय कुटुम्बकम कहा गया है अर्थात पूरा संसार एक परिवार है और पूरा परिवार सुखी रहे, प्रसन्न रहे यह सभी की कामना होती है। कलेक्टर ने कहा कि सुख बांटने से बढ़ता है और दुख बांटने से कम होता है। उन्होंने बताया कि पूरे जिले भर में आनंदम कार्यक्रम के अंतर्गत सांस्कृतिक एवं खेलकूद संबंधी गतिविधियां आयोजित की जाएगीं।