हावड़ा से एर्नाकुलम के बीच पहली पूर्णत: अनारक्षित ‘अंत्योदय एक्सप्रेस’ शुरू

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने पहली अंत्योदय एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया साथ ही रेलमंत्री ने नई कैटरिंग पॉलिसी का भी ऐलान किया। उन्होंने तीसरी हमसफ़र एक्सप्रेस को भी झंडी दिखाकर रवाना किया।
अंत्योदय एक्सप्रेस को लंबी दुरी वाले रुट पर चलाया जायेगा जिसकी घोषणा करते हुए रेल मंत्री ने कहा की अब आम यात्री भी इस पूरी तरह से अनारक्षित ट्रेन में राजधानी जैसी सुविधाओं का लाभ उठा सकेंगे।

हावड़ा से एर्नाकुलम के बीच चलने वाली इस ट्रेन में यात्रियों की सुविधा के लिए मोबाइल चार्जर पॉइंट, बायो टॉयलेट्स, पीने के पानी के लिए वाटर प्यूरिफॉयर और कुशन वाले सीट लगाए गए है। 22 बोगियों वाली यह ट्रेन एक दूसरे से पूरी तरह से इंटरकनेक्टेड है।

वहीँ हमसफर एक्सप्रेस पूरी तरह से 3 टीयर वातानुकूलित ट्रेन हैं जिसे सबसे पहले गोरखपुर से आनंद विहार के बीच चलाया गया था। अब हमसफ़र एक्सप्रेस श्रीगंगानगर से त्रिचरापल्ली के बीच हर सफ्ताह चलेगी।

नई केटरिंग नीति का ऐलान करते हुए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि अब आईआरसीटीसी खाना पकाने और वितरण को अलग-अलग रखते हुए केटरिंग सेवा संचालित करेगी ताकि जनता की स्वस्थ एवं शुद्ध खाने की अकांक्षाओं को पूरा किया जा सके।

रेलवे में भोजन की गुणवत्ता को लेकर आ रही शिकायतों के मद्देनज़र नई केटरिंग नीति को हरी झंडी दी गई है। शॉर्ट नोटिस पर शुरू की गई सभी नई ट्रेनों में कैटरिंग सर्विस के प्रबंधन का जिम्मा भी आईआरसीटीसी का ही होगा।

नई पॉलिसी में जहां एक तरफ आईआरसीटीसी को सभी ट्रेनों में कैटरिंग का जिम्मा दिया गया है तो वहीं दूसरी तरफ प्लेटफार्म और रेलवे स्टेशन पर उचित क्वालिटी का स्वादिष्ट खाना मिले इसकी भी गारंटी दी गई है।

साथ ही रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा की रेलवे के पास परिवहन है और डाक विभाग के पास बुनियादी ढांचा जिसके साथ काम करने से देश में पार्सल कारोबार को और बेहतर बनाया जा सकता है।